Shardiya Navratri 2022: जानिए, कैसे तय होता है मां दुर्गा के आने का वाहन, क्या होता है उनका फल

Shardiya Navratri 2022: अब कुछ दिनो में शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) आने वाला है जो कि 26 September सोमवार शुरू होने वाला है। इस बार के नवरात्रि कई शुभ संकेत दे रहा है । किंतु आज इस लेख हम आपको बताए गे कि कैसे देवी मां के आगमन के लिए हर नवरात्रि पर उनका वाहन कैसे तय किया जाता है तथा उनकी विदाई किस वाहन से होगा ये कैसे तय किया जाता है।

Shardiya Navratri 2022

ऐसे तो हम सब मालूम है कि मां का वाहन सिंह है। लेकिन यह तभी उनका वाहन है जब वे युद्ध रत होती हैं। भक्तों के पास आने के लिए मां भगवती अलग-अलग वाहनों का चुनाव करती हैं।

इस बार का वाहन हाथी

Shardiya Navratri 2022

इस बार देवी हाथी पर सवार होकर आ रही हैं। देवी भागवत ग्रंथ के अनुसार वैसे तो मां दुर्गा का वाहन सिंह है। लेकिन इसी ग्रंथ में कहा गया है कि हर साल नवरात्र पर देवी अलग-अलग वाहनों पर सवार होकर धरती पर आती हैं।

कैसे तय होता वाहन

देवी का आगमन किस वाहन पर हो रहा है, यह दिनों के आधार पर तय होता है। सोमवार या रविवार को घट स्थापना होने पर मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आती हैं।

Shardiya Navratri 2022

शनिवार या मंगलवार को नवरात्रि की शुरुआत होने पर देवी का वाहन घोड़ा माना जाता है। गुरुवार या शुक्रवार को नवरात्र शुरू होने पर देवी डोली में बैठकर आती हैं। बुधवार से नवरात्र शुरू होने पर मां दुर्गा नाव पर सवार होकर आती हैं।

इन तथ्यों को देवी भागवत के इस श्लोक में वर्णन किया गया है.

   

शशिसूर्ये गजारूढ़ा शनिभौमे तुरंगमे।

गुरौ शुक्रे चदोलायां बुधे नौका प्रकी‌र्त्तिता ।।

वाहनों का यह होता है शुभ-अशुभ असर

माता दुर्गा जिस वाहन से पृथ्वी पर आती हैं, उसके मुताबिक सालभर होने वाली घटनाओं का भी अनुमान किया जाता है। इनमें कुछ वाहन शुभ फल देने वाले और कुछ अशुभ फल देने वाले होते हैं। देवी जब हाथी पर सवार होकर आती है तो पानी ज्यादा बरसता है।

Chemical farming a big challenge in India

घोड़े पर आती हैं तो युद्ध की आशंका बढ़ जाती है. देवी नौका पर आती हैं तो सभी की मनोकामनाएं पुर्ऩ होती हैं और डोली पर आती हैं तो महामारी का भय बना रहता हैं। इसका भी वर्णन देवी भागवत में किया गया है।

Shardiya Navratri 2022

गजे च जलदा देवी क्षत्र भंग स्तुरंगमे।
नोकायां सर्वसिद्धि स्या ढोलायां मरणंधुवम्।।

मां के जाने का वाहन भी होता है निश्चित

देवी भगवती का आगमन भी वाहन से होता है और गमन भी निश्चित वाहन से ही करती हैं। यानी जिस दिन नवरात्र का अंतिम दिन होता है। उसी के मुताबिक देवी का वाहन भी तय होता है़। इसी के मुताबिक जाने के दिन व वाहन का भी शुभ अशुभ फल होता है।

Chaitra Navratri 2022 story in hindi दुर्गा पूजा मनाए जाने की वजह ,Chaitra Navratri 2022 Mein Kab Hai Date

Shardiya Navratri 2022

रविवार या सोमवार को देवी भैंसे की सवारी से जाती हैं तो देश में रोग और शोक बढ़ता है। शनिवार या मंगलवार को देवी मुर्गे पर सवार होकर जाती हैं। जिससे दुख और कष्ट की वृद्धि होती है। बुधवार या शुक्रवार को देवी हाथी पर जाती हैं। इससे बारिश अधिक होती है।गुरुवार को मां दुर्गा मनुष्य की सवारी से जाती हैं। इससे सुख और शांति की वृद्धि होती है।

शशि सूर्य दिने यदि सा विजया महिषागमने रुज शोककरा।

शनि भौमदिने यदि सा विजया चरणायुध यानि करी विकला।।

बुधशुक्र दिने यदि सा विजया गजवाहन गा शुभ वृष्टिकरा।

सुरराजगुरौ यदि सा विजया नरवाहन गा शुभ सौख्य करा॥

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला