Home sports तालिबान के साथ अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ऑफिस में घुसे राशिद खान के...

तालिबान के साथ अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ऑफिस में घुसे राशिद खान के साथी खिलाड़ी, वायरल हुई तस्वीर!

0
186

नई दिल्ली। अफगानिस्तान के कब्जे के बाद अब तालिबान ने वहां के क्रिकेट बोर्ड के दफ्तर में भी घुसपैठ कर ली है। गुरुवार को तालिबानी आतंकी काबुल में अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड के हेड ऑफिस में घुस गए। सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें तालिबान आतंकवादी एके-47 लेकर क्रिकेट बोर्ड के दफ्तर में घुसे हैं और उनके साथ पूर्व स्पिनर अब्दुल्ला मजारी भी हैं। अब्दुल्ला मजारी (अब्दुल्ला मजारी करियर) बाएं हाथ के स्पिनर हैं और उन्होंने अफगानिस्तान के लिए 2 एकदिवसीय मैच भी खेले हैं। इसके अलावा यह खिलाड़ी 21 फर्स्ट क्लास मैच, 16 लिस्ट ए और 13 टी20 मैच भी खेल चुका है। आपको बता दें कि अब्दुल्ला मजारी काबुल ईगल्स के खिलाड़ी रह चुके हैं जो शापागीजा टी20 लीग की टीम है। राशिद खान अब्दुल्ला मजारी के साथ काबुल ईगल्स के लिए भी मैच खेल चुके हैं।

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद अब उसकी क्रिकेट टीम का भविष्य भी खतरे में है। इस टीम ने बहुत मेहनत करके टेस्ट टीम का दर्जा हासिल किया है और राशिद खान और मुजीब जैसे स्पिनरों ने पूरी दुनिया में अपनी स्पिन का खतरा दिखाया है लेकिन अब कोई नहीं जानता कि तालिबान के सत्ता में आने पर अफगान क्रिकेट टीम का क्या होगा।

पूर्व क्रिकेटर अब्दुल्लाह मजारी है तालिबानी समर्थक!

तालिबान जैसा क्रिकेट-अफगान क्रिकेट बोर्ड
हालांकि, अफगान क्रिकेट बोर्ड के सीईओ हामिद शेनवारी का दावा है कि तालिबान से अफगान क्रिकेटरों और उनके परिवारों को कोई खतरा नहीं है। शेनवारी ने कहा कि तालिबान को क्रिकेट पसंद है और टीम टी20 विश्व कप में हिस्सा लेगी। इतना ही नहीं अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड 10 से 25 सितंबर तक शापागीजा क्रिकेट लीग आयोजित करने का भी दावा कर रहा है।

राशिद खान भी अब्दुल्लाह मजारी के साथ काबुल ईगल्स के लिए मैच खेल चुके हैं (PC-अब्दुल्लाह मजारी Facebook)

अफगानिस्तान महिला क्रिकेट टीम खतरे में
आपको बता दें कि तालिबान महिलाओं की आजादी के खिलाफ है और अब अफगानिस्तान में सत्ता में आते ही इस देश की महिला क्रिकेट टीम का अस्तित्व खतरे में है. पिछले साल ही अफगानिस्तान ने पहली बार 25 महिला खिलाड़ियों को सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट दिया था। अगर तालिबान की वजह से अफगानिस्तान महिला टीम टूट जाती है, तो यह देश आईसीसी का पूर्ण सदस्य नहीं रह पाएगा क्योंकि आपके लिए दोनों टीमों का होना जरूरी है। फिलहाल अफगानिस्तान के अहम खिलाड़ी इंग्लैंड में द हंड्रेड टूर्नामेंट खेल रहे थे और अब वे यूएई में आईपीएल में भी खेलते नजर आएंगे लेकिन इन खिलाड़ियों को अपने परिवार की चिंता है।

NO COMMENTS

Leave a Reply

%d bloggers like this: