एक देश एक परीक्षा क्या है?one nation one exam kya hai

हाल में ही केंद्र के मोदी सरकार ने भर्ती परीक्षाओं में एक बड़ा संशोधन किया है। आपको बता दे अब केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय के मुताबिक Group D के गैर-राजपत्रित पदों Group C के कुछ पदों और सहायक सरकारी संगठनों के पदों पर नियुक्ति के लिए सामान्य पात्रता परीक्षा (CET) कराने के लिए एक विशिष्ट एजेंसी गठित करने का प्रस्ताव दिया गया है। हाल ही में सरकार नें सरकारी नौकरी में रिक्त पदों की संख्या को लेकर एक आंकड़ा जारी किया है| इस आकड़े के अनुसार देश में मार्च, 2020 तक केंद्र सरकार के अलग-अलग विभागों में मार्च, रिक्त पदों की कुल संख्या 8,72,243 थी।

छात्रो नहीं देना होगा अलग – अलग शुल्क

सरकार द्वारा विभिन्न विभागों में जब यह भर्तियाँ निर्गत की जाती है, तो छात्रों को अलग – अलग विभाग में आवेदन करनें के लिए अलग-अलग शुल्क
देना पड़ता है , लेकिन अब ऐसा नहीं देना होगा। अलग – अलग एग्जाम होने के कारण छात्रो को निर्धारित एग्जाम केंद्र पर पहुचनें के लिए यात्रा व्यय करना पड़ता है| छात्रों की इस समस्या के सामधान हेतु हेतु सरकार नें एक देश एक एग्जाम का फैसला लिया है। इसके बारे में विस्तृत रूप से इस लेख में बताए गे।

केंद्र ने नौकरी के लिए आयोजित होनें वाली परीक्षाओं के लिए कुछ दिन पहले ही एक बड़ा फैसला लिया है।
ग्रुप ‘बी’ और ‘सी’ के पदों के लिए होने वाली सभी भर्तियों को एक ही एग्जाम के माध्यम से करने का फैसला लिया| यह कार्य सामान्य पात्रता परीक्षा (CET) के माध्यम से एक विशिष्ट एजेंसी से करवानें का प्रस्ताव रखा है|

केंद्रीय कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह के अनुसार, ‘ग्रुप ‘बी’ गैर-राजपत्रित पदों, सरकार में ग्रुप ‘सी’ के कुछ पद और सहायक सरकारी संगठनों में इन्हीं पदों पर नियुक्ति हेतु उम्मीदवारों के चयन के लिए सामान्य पात्रता परीक्षा (CET) कराने के लिए एक विशिष्ट एजेंसी गठित करने का प्रस्ताव दिया गया है| इससे परीक्षा का आयोजन करनें वाली सरकारी एजेंसियों और परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों दोनों के पैसों की बचत होगी|  इसके साथ ही सभी प्रतिभागियों को सामान अवसर प्राप्त होगा।

एक देश एक एग्जाम से फायदे (Benefit One Nation One Exam)

किसी एक एजेंसी द्वारा एग्जाम का आयोजन आनलाईन तरीके से किया जायेगा। जिससे परीक्षा का रिजल्ट आनें में कम वक्त लगेगा।

छात्रों को हर विभाग की एग्जाम के लिए अलग से फीस नहीं जमा अवश्यकता नहीं पड़ेगी, एक ही बार फीस जमा करना पड़ेगा।

भारत के प्रत्येक जिलें में कम से कम एक एग्जाम
सेंटर बनाया जायेगा।जिससे छात्रों को किसी दूसरे जिलें में एग्जाम देने के लिए यात्रा खर्च और लगने वाला समय दोनों की बचत होगी।

कैन्डिडेट स्वयं तय कर सकते है एग्जाम
सेंटर

चयन प्रक्रिया में कम वक्त लगेगा, साथ ही एक पोर्टल के माध्यम से कॉमन रजिस्ट्रेशन होगा।

इसका सीधा लाभ तैयारी करने वालें युवाओं को मिलेगा, और उनकी समस्याए कम होंगी।

सामान्य पात्रता परीक्षा की जानकारी (Information About CET)

प्रतियोगी परीक्षाओं को पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से केंद्र सरकार सामान्य पात्रता परीक्षा (CET) के आयोजन पर विचार कर रही है| सरकार का मानना है, कि विभिन्न सरकारी नौकरी भर्ती परीक्षाओं में पारदर्शिता के उद्देश्य से सभी सरकारी नौकरी की परीक्षाओं के लिए एक प्लेटफॉर्म ‘सामान्य पात्रता परीक्षा’ (CET) होना चाहिए। जिससे भर्ती परीक्षाओं का समुचित और उचित ढंग से संचालन किया जा सके और अभ्यर्थियों की एग्जाम के वक्त होनें वाली परेशानी से बच सकें|

सरकार नें सरकारी परीक्षाओं में पारदर्शिता बनाने के उद्देश्य से 14 मार्च, 2018 को राज्य सभा में एक बिल पेश किया था। इस  बिल के मुताबिक भारत सरकार की ग्रुप ‘बी’ (गैर-राजपत्रित) और नीचे के स्तर के पदों की रिक्तियों हेतु अभ्यर्थियों के चयन के लिए सभी प्रतियोगी परीक्षाओं को अब एक सामान्य चयन एग्जाम अर्थात सामान्य पात्रता परीक्षा (CET) के माध्यम से आयोजित किये जाने का विचार रखा गया है| बताया जा रहा है कि बाद में इसमें राज्य के सरकार के सरकारी प्रतियोगी परीक्षाओं को भी शामिल किया जाएगा।

सीईटी आयोजित करने का कारण (Reason For Conducting CET)

विभिन्न सरकारी संस्थानों में कर्मचारियों और अधिकारियों की नियुक्ति हेतु सम्बंधित संस्थानों द्वारा आयोजित परीक्षाएं किसी न किसी वजह से असफल रहीं| सरकार नें इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए कहा कि सीईटी के गठन किया है| सरकार का मानना है, कि इससे आयोग की छवि खराब होनें के साथ ही धन की बर्बादी रूकेगी और साथ ही छात्रों के साथ आयोग का समय भी नष्ट होता है। यानी अब सरकार के साथ समय भी बचेगा। जिसके कारण संसदीय समिति ने यह प्रस्ताव रखा। सीईटी चयन प्रक्रिया (CET Selection Process) सीईटी (CET) के तहत एग्जाम की चयन प्रक्रिया दो चरणों में विभाजित की गई है, जो इस प्रकार है-

टीयर 1- भारत सरकार (Indian government )/
की सभी भर्ती एजेंसियों द्वारा आयोजित प्रारंभिक टीयर -1 परीक्षाओं में शामिल एक आम स्क्रीनिंग टेस्ट, अर्थात एसएससी, रेलवे, बैंकिंग, आदि|

टियर 2- मुख्य भर्ती संबंधित भर्ती एजेंसियों द्वारा आयोजित होने वाली मुख्य परीक्षाएं|

सीईटी एग्जाम स्तर और प्रणाली (CET Exam Level & System)

सीईटी के तहत परीक्षाएं तीन स्तरों पर आयोजित किए जाने का सुझाव दिया गया है, जो इस प्रकार है-

मैट्रिक्यूलेशन स्तर

उच्च माध्यमिक (10 + 2) स्तर

स्नातक स्तर

सीईटी परीक्षा की वैधता (CET Exam Validity)

सरकार द्वारा सीईटी स्कोर दो साल की अवधि के लिए वैध रखा जाएगा। अभ्यर्थी टीयर 2 परीक्षाओं में शामिल होनें के लिए अपने स्कोर का उपयोग करेंगे, जो संबंधित भर्ती एजेंसियों द्वारा स्वतंत्र रूप से आयोजित किया जाएगा|

सीईटी एग्जाम से नुकसान (Loss From CET Exam)

सरकार के मुताबिक शुरूआत में सीईटी द्वारा एग्जाम केवल अंग्रेजी और हिंदी माध्यम में आयोजित करेगी| सीईटी परीक्षा क्षेत्रीय भाषाओं में आयोजित नहीं की जाएगी| यह क्षेत्रीय भाषाओं में लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं के लिए तैयारी कर रहे छात्रों के लिए एक बड़ी समस्या बन सकती है।

चलिए दोस्तों ये थी सीईटी कुछ महत्वपूर्ण विषय। बाकी इसी तरह के जानकारी के लिए बने रहिए हमारे साथ।

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला