oath ceremony punjab: जब भगवंत मान ने मुख्यमंत्री बने के लिए पत्नी से ले लिया था तलाक?

आप नेता भगवंत मान ने बुधवार को पंजाब के 18वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। इस शपथ समारोह में राजनीति के कई बड़े नाम मौजूद थे।लेकिन चर्चा में मान की पूर्व पत्नी इंद्रप्रीत कौर का ही नाम रहा। 2014 में राजनीति में कदम रखने वाले मान की राजनीतिक तरक्की में कौर की बड़ी भूमिका रही है। लेकिन साल 2015 में मान ने पंजाब को अपना परिवार बताते हुए अपनी पत्नी और बच्चों से दूरी बना ली थी।

कहानी साल 2015 की है। जनता के बीच खुशहाल जोड़ी की छवि रखने वाले भगवंत मान और इंद्रप्रीत कौर ने एसएएस नगर कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दी थी। जैसे ही मिडिया में ये खबर आया कई लोगों को झकझोर दिया। ऐसे में मान ने दावा किया कि उन्होंने परिवार से पहले ‘पंजाब’ को चुना। उस दौरान भी कोर्ट ने विचार के लिए 6 महीने का समय दिया था। लेकिन मान ने अपना मन बना लिया था।

साथ ही उन्होंने इसे लेकर एक कविता भी पोस्ट की थी- ‘जो लटकेयां सी चिरा तो ओ हाल हो गया, कोर्ट च एह फैसला कल हो गया… एक पासे सी परिवार, दूजे पासे सी परिवार… मैं ता यारां पंजाब दे वल हो गया।’ इसका मतलब हुआ कि लंबे समय से अटका हुआ एक मुद्दा सुलझ गया है।कोर्ट ने कल फैसला कर दिया है। मुझे एक और दूसरे परिवार के बीच चुनना पड़ा। मैंने पंजाब के साथ जानने का फैसला किया।

जब पत्नी बनीं राजनीतिक सहारा

कौर ने अपने राजनीतिक सफर में भी मान का काफी साथ दिया। साल 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने संगरूर के गांवों में अपने पति की जीत के लिए प्रचार किया था। लेकिन पंजाब की पीपुल्स पार्टी के समय से कौर ने मान के लिए कई सभाओं और भाषणों में हिस्सा लिया है। लेकिन पति से अलग होने के बाद कौर अपने बच्चों के साथ अमेरिका में बस गईं।

जब लोगों के निशाने पर आए भगत

2015 में कई लोगों ने मान के फैसले को राजनीतिक ड्रामा बताया था। लेकिन कई लोग उनके समर्थन में भी आए। आप नेता ने एक समर्थक की फोटो भी शेयर की थी। जिसमें लिखा था कि हम भगवंत मान के आभारी हैं कि उन्होंने हमारे लिए परिवार का बलिदान दिया और अपने बच्चों के सामने हमारे दर्द पर ध्यान दिया। हम भी उनके साथ खड़े हैं।

क्या थे पंजाब चुनाव के नतीजे

117 सीटों वाले पंजाब में आप ने 92 सीटों पर जीत हासिल की। वहीं संगरूर जिले की धुरी सीट से चुनाव लड़ चुके मान ने भी करीब 58 हजार वोटों से जीत हासिल की. 2017 में दूसरे नंबर पर रही आप इस बार राज्य में सरकार बनाने के लिए तैयार है। जबकि, चरणजीत सिंह चन्नी और नवजोत सिंह सिद्धू के नेतृत्व वाली कांग्रेस केवल 18 सीटें जीत सकी।

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला