Jammu And Kashmir: क्या टूट गया है फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की पार्टी का गुपकार अलायंस? जाने सच

Jammu And Kashmir: क्या जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में गुपकार  गठबंधन में फूट पड़ गई है? क्या जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में खत्म होने वाला है गुपकार गठबंधन? ये सवाल जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) और देश की राजनीति में अचानक उठने लगे हैं | क्योंकि इस गठबंधन की मुख्य पार्टी नेशनल कांफ्रेंस ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर में होने वाले विधानसभा चुनाव में अकेले लड़ने का ऐलान कर दिया|

Jammu And Kashmir
shashiblog

Jammu And Kashmir

उमर अब्दुल्ला बोले


राज्य के पूर्व सीएम और नेशनल कांफ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने कहा कि उनकी पार्टी जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) विधानसभा की सभी 90 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी| यह घोषणा उनकी पार्टी की प्रांतीय बैठक के बाद किया गया| इस घोषणा ने वादी के अन्य घटकों के साथ नेशनल कांफ्रेंस (NC) के चुनाव लड़ने की सभी संभावनाओं को समाप्त कर दिया है। इस बैठक के बाद जारी बयान में यह भी कहा गया है कि प्रांतीय समिति के सदस्यों ने सर्वसम्मति से संकल्प लिया है कि सभी 90 विधानसभा सीटों के लिए तैयारी कर चुनाव लड़ना चाहिए|

Jammu And Kashmir

नेशनल कांफ्रेंस ने जारी की प्रेस विज्ञप्ति

Jammu And Kashmir
shashiblog


इस मामले में पार्टी ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति जारी की है.| प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि PDP और उसके कुछ सहयोगियों द्वारा की गई बयानबाजी, ऑडियो जिंगल्स ने उनकी पार्टी को निशाना बनाते हुए जारी किया। इससे दोनों के बीच की दूरी का आसानी से पता लगाया जा सकता है। उमर अब्दुल्ला ने इस संबंध में ट्वीट किया कि “आज की घोषणा ने यहां के राजनीतिक हलकों को आश्चर्यचकित नहीं किया है क्योंकि पहले से ही संकेत थे कि एनसी अपने दम पर चुनाव लड़ेगी और PDP के साथ नहीं जाना चाहेगी|

Saif Ali Khan: अमृता सिंह और करीना ही नही बल्कि इन महिलाओं के साथ भी संबंध बना चुके है सैफ अली खान

Jammu And Kashmir

क्या कहा फारूक अब्दुल्ला ने?


उमर अब्दुल्ला के पिता और राज्य के पूर्व सीएम डॉ फारूक अब्दुल्ला (Dr. Farooq Abdullah) ने माना कि वह इस मुद्दे पर उमर को सलाह नहीं दे सकते| उन्होंने कहा कि PDP को कोई खतरा नहीं है , लेकिन इस घोषणा ने न केवल उन्हें बल्कि अन्य सहयोगियों को भी आश्चर्यचकित कर दिया है क्योंकि इस कदम ने PDP के संभावित अंत का संकेत दिया है।

Jammu And Kashmir

लेकिन फारूक अब्दुल्ला यह कहकर स्थिति को संभालने की कोशिश कर रहे हैं कि तत्कालीन राज्य की विशेष स्थिति से लड़ने के लिए स्थापित गुपकार  गठबंधन अभी भी बरकरार है, और प्रासंगिकता बनी रहेगी। फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि कोई भी लोकतांत्रिक पार्टी कोई भी प्रस्ताव पारित कर सकती है| लेकिन अंतिम फैसला जम्मू-कश्मीर में चुनाव की घोषणा के बाद ही लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि फिलहाल गठबंधन तात्कालिक परिस्थितियों पर निर्भर करेगा|

Jammu And Kashmir

पीडीपी क्या बोली?


वहीं पीडीपी ने भी स्थिति को संभालने की कोशिश की है और नेकां के फैसले पर कहा है कि पीएजीडी का गठन 370 जैसे बड़े मुद्दे और राज्य के अधिकारों की बहाली के लिए आया था और यह चुनावी गठबंधन नहीं है. पीडीपी प्रवक्ता ने कहा कि चुनाव की कोई बात नहीं है, पार्टियां कोई भी फैसला ले सकती हैं. पीएजीडी चुनाव से बड़े मुद्दे के लिए गठबंधन है और अगर कोई पार्टी कहती है कि वे अकेले चुनाव लड़ेंगे तो इससे क्या फर्क पड़ता है?

Jammu And Kashmir

आपकी पार्टी ने क्या कहा?


पीडीपी ने कहा कि चुनाव की घोषणा के बाद चुनावी गठबंधन पर अंतिम निर्णय पर अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। पीएजीडी की कट्टर प्रतिद्वंद्वी पार्टी अपनी पार्टी ने इसे ड्रामा करार दिया है। उनकी पार्टी के उपाध्यक्ष गुलाम हसन मीर ने कहा कि पूरा समूह लोगों को धोखा दे रहा है| उन्होंने कहा कि पीएजीडी उन चीजों का वादा कर लोगों को धोखा दे रहा है जो कभी वापस नहीं लाई जा सकतीं। चुनाव एक वास्तविकता है और यह घोषणा इस बात का संकेत है कि पार्टियों ने इसे महसूस किया है|

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला