आपका कितना बड़ा है?, ईसा गुहा ने क्रिकेट मैच के दौरान की भद्दी कामेंट

12 दिसंबर को बिग बैश लीग में सिडनी थंडर का मैच खेला जा रहा था। मैक्सवेल की कप्तानी वाली मेलबर्न स्टार्स से हुआ। यह थंडर्स के लिए एक घरेलू मैच था। उसी मैच दौरान ऐसी घटना घटी जिसमें वर्तमान में सब मौन था। असल में कमेंट्री पैनल ने स्पिन-गेंदबाजी और कैरम गेंदों की कला पर चर्चा करनी शुरू कर दी। ईसा गुहा और एडम गिलक्रिस्ट ने अपने साथी कमेंटेटर के रूप में ध्यान से सुना कि कैरम-गेंद एक गेंदबाजी करने में क्या सहा की करता है।

isa guha

गुहा की ओर इशारा करते हुए, उन्हें यह कहा कि स्पिन गेंदबाजी कोचिंग क्लीनिक जहां मुख्य कोच ने कहा है, आप सभी जानते है। आप बस मुझे अपने गेंदबाज हाथ दिखाओ। सबसे लंबी मध्यमा उंगली वाले लड़के या बच्चे की पहचान संभावित कैरम-गेंदबाज के रूप में हो जाएगी।

ठीक उसी तरह जैसे आप पढ़ते समय मध्यमा शब्द की गलत व्याख्या कर रहे हैं, ईसा गुहा ने भी कुछ ऐसा ही किया। इसके बाद साथी कमेंटेटर को उनकी कोहनी पर थपथपाते हुए, ईसा गुहा ने पूछा, “तुम्हारा कितना बड़ा है ??”

अगर यही शब्द कोई पुरूष कहता तो शायद उसके विरुद्ध Twitter trend चल जाता और उसे फौरन कमेंट्री से हटा दिया जाता है। खैर यही से बवाल शुरू हो गया। कुछ लोगों के लिए यह मजाकिया था। कुछ लोगों के लिए यह अश्लीलता थी । वैसे यह अश्लीलता ही थी क्योंकि यही सॉफ्ट सेक्सुअलिटी अगर कोई लड़का दिखा तो उसको भला बुरा बोलकर नष्ट करने की कोशिश की जाती।

अगर उदाहरण चाहिए तो क्रिस गेल का मामला ले लीजिए। “मुस्कुराओ मत बेबी!”, इतना कहने के लिए क्रिस गेल को टीम से बाहर कर दिया गया था। एक पत्रकार को इतना कहने के लिए क्रिस गेल को यह कीमत चुकानी पड़ी। सोचिए अगर एक पुरूष “तुम्हारा कितना बड़ा है” पूछ लेता तो कैसा हंगामा हो जाता। सॉफ्ट सेक्सुअलिटी को फैलाने वालों से बचने की आवश्यकता है। प्लास्टिक सेक्सुअलिटी के नाम पर जो अश्लीलता का नाच हो रहा है, उसे किसी कीमत पर स्वीकार नहीं किया जाता है।

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला