Thursday, October 21, 2021
HomeUncategorizedDevshayani Ekadashi: समस्त व्याधियों को दूर करने के साथ सभी मनोकामनाओं की...

Devshayani Ekadashi: समस्त व्याधियों को दूर करने के साथ सभी मनोकामनाओं की पूर्ति करता है

Devshayani Ekadashi Vrat Date: प्रत्येक वर्ष आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को देवशयनी एकादशी का व्रत किया जाता है। इस दिन से चातुर्मास शुरू हो जाता है और सभी शुभ कार्य स्थगित हो जाते हैं।
हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत का विशेष स्थान है। एकादशी तिथि को एकादशी का व्रत रखा जाता है।

Devshayani Ekadashi Vrat Date:

एकादशी तिथि महीने में दो बार आती है। इस प्रकार एक वर्ष में कुल 24 एकादशी होती हैं। इन सभी एकादशियों के नाम और महत्व अलग-अलग हैं। आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि, उस एकादशी तिथि को देवशयनी एकादशी कहते हैं। ऐसी धार्मिक मान्यता है कि इस दिन यानि आषाढ़ शुक्ल एकादशी तिथि को देवशयनी एकादशी का व्रत रखने से सभी रोगों से मुक्ति के साथ-साथ सभी प्रकार की मनोकामनाएं भी पूरी होती हैं.

देवशयनी एकादशी का महत्व: शास्त्रों में माना जाता है कि इस दिन से भगवान विष्णु चतुर्मास के लिए पाताल लोक में सोने चले जाते हैं। इसलिए इस दिन से लेकर अगले चार महीनों तक कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। देवशयनी एकादशी को हरिशयनी भी कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं में देवशयनी एकादशी का व्रत सर्वश्रेष्ठ एकादशी माना गया है। इस व्रत से व्यक्ति के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। सारे रोग दूर हो जाते हैं।

देवशयनी एकादशी व्रत कथा

पौराणिक कथाओं के अनुसार राजा मान्धाता अपनी प्रजा के कार्यों के लिए तीनों लोकों में प्रसिद्ध थे। एक बार जब राज्य में भयंकर अकाल पड़ा, तो प्रजा की स्थिति बहुत गंभीर हो गई। अपनी प्रजा की समस्याओं को दूर करने के लिए राजा मान्धाता ने अंगिरा ऋषि से भेंट कर अपनी समस्या बताई और उसका समाधान पूछा। इस पर अंगिरा मुनि ने देवशयनी एकादशी का व्रत विधिपूर्वक करने की बात कही और इसका महत्व समझाया। ऋषि अंगिरा की सलाह के बाद, राजा मान्धाता ने यह व्रत रखा, जिसके परिणामस्वरूप उनके राज्य में बारिश होने लगी और प्रजा अकाल से बच गई। जो लोग इस व्रत को करते हैं उनके सभी पाप दूर हो जाते हैं और उनकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

देवशयनी एकादशी मुहूर्त

एकादशी तिथि प्रारंभ- 19 जुलाई 2021 रात 09:59 बजे।
एकादशी तिथि समाप्त – 20 जुलाई 2021 शाम 07:17 बजे तक।
एकादशी व्रत- 21 जुलाई 2021 प्रातः 05:36 से प्रातः 08:21 बजे तक

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

Most Popular

Recent Comments

%d bloggers like this: