CDS Bipin Rawat: काउंटर-इंसर्जेंसी के एक्सपर्ट हैं बिपिन रावत नहीं रहे और जानिए उन से जुड़े 10 बड़ी बाते

तमिलनाडु के कुन्नूर में अब कुछ घंटे पहले सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ है। जिसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat ) और उनकी पत्नी समेत 14 लोग सवार थे। न्यूज एजेंजी ANI रिपोर्ट मुताबिक 14 में से 13 की मुत्यु की खबर सामने आ रही है। कुछ मिडिया रिपोर्ट माने तो भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत और उनके पत्नी हमारे बीच नहीं रहे। लेकिन अबतक इस पर कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसद कल देश के संसद में जनता को संबोधन

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसद कल देश के संसद में जनता को संबोधन

आपको बता दें कि CDS बिपिन रावत के करियर का लंबा समय भारतीय सेना की सेवा में गुजरा है। वो ऊंचाई पर जंग लड़ने के एक्सपर्ट रहे हैं।

आइए जानते हैं उन से जुड़ी खास बाते

जनरल बिपिन रावत को आर्मी में ऊंचाई पर जंग लड़ने और काउंटर-इंसर्जेंसी ऑपरेशन (Counterinsurgency) यानी जवाबी कार्रवाई के एक्सपर्ट के तौर पर जाना जाता है।

साल 2016 में उरी में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत के नेतृत्‍व में 29 सितंबर 2016 को पाकिस्‍तान में बसे आतंकी शिविरों को ध्‍वस्‍त करने के लिए सर्जिकल स्‍ट्राइक की गई थी। जिसको बिपिन रावत ने ट्रेंड पैरा कमांडों के माध्यम से अंजाम दिया था।

उरी में सेना के कैंप और पुलवामा में CRSF
पर हुए हमले में कई जवान शहीद होने के बाद सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक की थी।

सेना सेवा के दौरान उन्होंने नियंत्रण रेखा (Line of Control) चीन बॉर्डर और नॉर्थ-ईस्ट में एक लंबा समय गुजारे है।

बिपिन रावत ने कश्मीर घाटी में पहले नेशनल राइफल्स में ब्रिगिडेयर और बाद में मेजर-जनरल के तौर पर इंफेंट्री डिवीजन की कमान संभाली साउथ कमांड की कमान संभालते हुए उन्होंने पाकिस्तान से सटी पश्चिमी सीमा पर मैकेनाइजड-वॉरफेयर के साथ-साथ एयरफोर्स और नेवी के साथ बेहतर तालमेल बैठाया।

चाइनीज बॉर्डर पर बिपिन रावत कर्नल के तौर पर इंफेंट्री बटालियन की कमान भी संभाल चुके हैं।

बिपिन रावत को इंडियन मिलिट्री एकेडमी (आईएमए) में ‘स्वर्ड ऑफ ऑनर’ से नवाजा जा चुका है।

रावत चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी के अध्यक्ष के साथ-साथ भारतीय सेना के 27वें सेनाध्यक्ष के रूप में भी कार्य कर चुके हैं।

आपको बता दें कि बिपिन रावत का जन्म 16 मार्च, 1958 को उत्तराखंड के पौड़ी में एक गढ़वाली राजपूत परिवार में हुआ था।बिपिन रावत ने 1978 में आर्मी ज्वॉइन की थी। बिपिन रावत ने 2011 में चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी से मिलिट्री मीडिया स्टडीज में पीएचडी की डिग्री हासिल की।

आर्मी चीफ से CDS बनने तक यूं तय किया सफर

बिपिन रावत ने 01 सितंबर 2016 को आर्मी के वाइस चीफ का पद संभाला और 31 दिसंबर 2016 को भारतीय सेना के 26वें चीफ की जिम्मेदारी मिली। वहीं 30 दिसंबर 2019 को उन्हें भारत के पहले CDS के रूप में नियुक्त किया गये । बिपिन रावत ने 01 जनवरी 2020 को CDS का पदभार ग्रहण किए ।कहा जाता है कि जनरल रावत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बहुत करीबी माने जाते है।

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला