Home Trending तालिबान का डर: बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए हवाई अड्डों पर...

तालिबान का डर: बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए हवाई अड्डों पर बच्चों को कंटीले बाड़ों पर फेंक रही अफगान महिलाएं

0
133
अफ़ग़ानिस्तान के लोगों को निकालने के लिए अमरीका और अन्य देशों की सेना हवाई अड्डे पर अभियान चला रही है. इस बीच कई जवानों ने एयरपोर्ट पर हो रहे डरावने घटनाक्रम का जिक्र किया है.

अफगानिस्तान में तालिबान शासन के बारे में सबसे बड़ा डर अमेरिकी सैन्य सहयोगियों और महिलाओं के बीच फैला हुआ है। ऐसे में किसी भी तरह की सजा से बचने के लिए बड़ी संख्या में लोग काबुल एयरपोर्ट पहुंच रहे हैं, ताकि जल्द से जल्द अफगानिस्तान को छोड़ा जा सके. हालांकि हवाईअड्डे पर अराजकता को रोकने के लिए अमेरिकी और ब्रिटिश सेनाओं ने कंटीले तारों के बाड़े बनाए हैं, ताकि मिशन के तहत चुनिंदा लोगों को ही बाहर निकाला जा सके. इस बीच रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहे जवानों ने एयरपोर्ट पर भयावह मंजर का जिक्र किया है. कुछ गार्डों का कहना है कि एयरपोर्ट में घुसने के लिए महिलाएं अपने बच्चों को कंटीले बाड़ों के पार फेंक रही हैं और दूसरी तरफ जवानों से उन्हें पकड़ने की अपील कर रही हैं.

स्काई न्यूज की एक रिपोर्ट में हवाई अड्डे पर पहरा देने वाले गार्ड के अनुभवों का वर्णन किया गया है। ब्रिटिश सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी का तो यहां तक ​​कहना है कि महिलाओं के इन कदमों को देखकर उनकी सैन्य टीम को बहुत दुख होता है. अधिकारी ने कहा, “यह खतरनाक है। महिलाएं अपने बच्चों को कांटेदार तार के पार फेंक रही थीं और सैनिकों से उन्हें पकड़ने के लिए कह रही थीं। कुछ बच्चे तारों में फंस रहे थे।”

काबुल एयरपोर्ट के और भी कई वीडियो हाल के दिनों में वायरल हुए हैं. इनमें महिलाओं को फाटकों और बाड़ों के बाहर मदद के लिए रोते हुए देखा जा सकता है। एक वीडियो में महिला कहती है- ”बचाओ, तालिबान आ रहे हैं.” इतना ही नहीं, हवाई अड्डे पर अमेरिकी और ब्रिटिश सेना की मौजूदगी के बावजूद तालिबान ने बाहर के नागरिकों को घेर लिया है। ऑस्ट्रेलियाई सेना के लिए काम करने वाले एक अफगान नागरिक ने कहा कि वह बुधवार को हवाई अड्डे पर लाइन में इंतजार कर रहा था। इस दौरान तालिबान के एक आतंकी ने उनके पैर में गोली मार दी।

अधिकांश प्रांतों पर तेजी से हमला करने के कुछ दिनों बाद, तालिबान ने अफगानिस्तान में अधिक उदार रुख दिखाने का प्रयास किया है। इसके तहत उन्होंने महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करने और सरकार में शामिल होने का न्योता दिया है. तालिबान के आश्वासनों पर संदेह जताने वाली कुछ अफगान महिलाएं उनके आश्वासनों की जांच कर रही हैं। देश के अधिकांश हिस्सों में, क्रूर तालिबान शासन के डर से कई महिलाएं घर पर रह रही हैं। काबुल में एक पश्चिमी महिला व्याख्याता ने कहा कि राजधानी में डर का माहौल है। उन्होंने कहा, ‘उन्होंने लोगों की घर-घर तलाश शुरू कर दी है। वे कह रहे हैं कि उन्होंने जनता को अकेला छोड़ दिया है लेकिन यह सच नहीं है।”

NO COMMENTS

Leave a Reply

%d bloggers like this: