Breaking News

WhatsApp का विकल्प Sandes? जानिए government के इस चैटिंग ऐप के बारे में•••

 

WhatsApp नये नियम (New rules) अनुसार लोगो के निजी जानकारी ( पर्शनल डाटा) खतरे में है। जिसमें नये नियम (New rules)अनुसार WhatsApp का निजी डाटा फेसबुक देख सकता है।प्राइवेसी पॉलिसी (Privacy Policy) नये नियम (New rules) को  फिलहाल WhatsApp ने मई ताल दिया है।

Sandes
Imges credit Aajtak

वही केंद्र government ने लोगो की निजी डाटा को सुरक्षित रखने के लिए कई कदम उठाए है। सुत्रो माने तो जल्द सरकार डाटा सुरक्षित रखने के लिए एक नई कानून लेकर आ रहे है।

WhatsApp की तर्ज पर ही स्वदेशी इंस्टेंट मैसेजिंग
तैयार -

WhatsApp की तर्ज पर ही स्वदेशी इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप संदेश (Sandes) बन कर तैयार हो चुका है। रिपोर्ट के मुताबिक इसका इस्तेमाल कुछ सरकारी अधिकारी कर रहे है। पिछले वर्ष भारत सरकार (Indian government) ने WhatsApp जैसे ऐप पर काम करने की बात कही थी।

आजतक खबर के मुताबिक ये ऐप बन कर तैयार हो चुका है। आरंभ में इसे कुछ सरकारी अधिकारियों को इस्तेमाल करने के लिए दिया गया है। और ये अभी टेस्टिंग फेज में भी हो सकता है।

GIMS.gov.in की website पर Sandes ऐप का LOGO है। उसमें आशोक चक्र देखा जा सकता है। बेसिकली इस लोगो के तीन लेयर्स हैं।तीनों लेयर्स मिल कर तिरंगा बनाते हैं और सेंटर में अशोक चक्र है। दूसरा लेयर देखने में WhatsApp जैसा ही लग रहा है। लेकिन ये डार्क ग्रीन है।

अभी के लिए लिमिटेड यूज.. 

Business standard की रिपोर्ट के मुताबिक  मंत्रालय के कुछ अधिकारियों ने पहले से ही गवर्नमेंट इंस्टेंट मैसेजिंग सिस्टम (GIMS) का यूज करना शुरू कर दिया है।

पिछले कई  साल के रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि इस government  Chatting app  को गवर्नमेंट इंस्टेंट मैसेजिंग सिस्टम (GIMS) कहा जाएगा। अब ये खबर निकल कर सामने आई है कि इसको संदेश नाम दिया गया है।

Gims.gov.in की website पर Sandes के बारे कुछ इनफॉमेशन भी है।यहां साइन-इन एलडीएपी, साइन-इन संदेश ओटीपी और संदेश web शामिल है।

किसी भी ऑप्शन पर टैप करने पर  Page पर एक मैसेज आता है। जिसमें लिखा है ये ऑथेंटिकेशन मैथड सिर्फ ऑथोराइज्ड सरकारी अधिकारियों(Government officials)के लिए लागू होती है।

Website पर आप अपना अकाउंट नहीं बना सकते हैं और न ही लॉग इन कर सकते हैं. ये अधिकारियों के लिए लिमिटेड है। इसमें साफ लिखा हुआ है । आम यूजर्स के लिए कब लाया जाएगा। इसकी कोई भी जानकारी नहीं मिली है।

रिपोर्ट के मुताबिक ये Sandes को एंड्रॉयड और आईफोन दोनों ही प्लैटफॉर्म्स (Platforms) के लिए लाया जाएगा। ये दूसरे चैटिंग ऐप की तरह वॉयस और डेटा सपोर्ट करता है। इस ऐप को नेशनल इनफॉर्मेटिक्स  सेंटर मैनेज करेगा जो इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नॉलजी मंत्रालय के अंदर आता है।

फिलहाल संदेश ऐप का यूज कुछ government अधिकारियों ही कर रहे है । इसके बाद में पब्लिक के लिए रोल-आउट करने की संभावना है। ये WhatsApp से कैसे टक्कर ले पाता है।ये देखना दिलचस्प होगा। लेकिन ये भी मुमकिन है, इसे government  केवल अधिकारियों को इस्तेमाल करने पर फोकस कर सकता है।

No comments