Breaking News

budget 2021 live: निर्मला सीतारमण पेश किए बजट क्या नये के भारत सपने पुरे होंगे। और जानिए आज की बजट की 10 बड़ी बातें

 

आज देश की बजट पेश की गई। ये बजट कैसा रहा ?
ye budget kesa rha hai ... आज बजट देखे सरकार ने पुरा फोकस स्वास्थ्य क्षेत्र (health sector) में किया है। कोरोना वायरस (covid 19) के चुनौती से जुझते हुए सरकार ने ये समझ चुकी है। कि जबतक इंडिया फिट नहीं रहेंगा तबतक देश  का GDP अर्थात (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि(Growth)
होने की संभवना नहीं है। पिछले साल जब मैंने एक लेख लिखा था कि कोरोना काल बाद दुनिया कैसी होगी तब मैंने ये बताया था कि अगर भारत को विश्व गुरू अर्थात सुपर पावर बना है तो  स्वास्थ्य क्षेत्र अर्थात (health sector) में बेहतर बनाना होगा। उस लेख में , मैंने बताया था कि देश के हर व्यक्ति का स्वास्थ्य बीमा अर्थात (Health Insurance) होना चाहिए। लेकिन मुझे इस बात का निराशा हुई है कि सरकार ने ये ऐतिहासिक कदम नही उठाया है। मैंने उस समय भी कहा था कि अगली महामरी से लड़ने के लिए हम पहले से तैयार रहे। इस बात की प्रसन्नता भी करना चाहिए सरकार ने  स्वास्थ्य क्षेत्र  (health sector) में फोकस किया है। जो नही हो सका वो अगले बजट होने उम्मीद कर सकते है।

budget 2021 live

covid 19 india : मेरे दृष्टिकोण जानिए कैसे आपदा काल भारत अवसर में बदल सकता है ...

हम कह सकते है कि आज भारत सरकार ने स्वास्थ्य क्षेत्र अर्थात (health sector) में कांतिकारी बजट पेश किया है। लेकिन प्रश्न वही है कि इसका लाभ आम आदमी को कबतक मिलेगा।  यानी धरातल पर कबतक आएगी। वित्त मंत्री ने 2021-22 के लिए स्वास्थ्य और कल्याण के क्षेत्र के लिहाज से 2,23,846 करोड़ रुपये के बजट का प्रस्ताव रखा। इससे वर्तमान वित्त वर्ष के 94,452 करोड़ रुपये के बजट लागत की तुलना में 137 प्रतिशत का इजाफा प्रस्तावित है।वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में अगले वित्त वर्ष के लिए कोविड-19 के टीकों (Covid-19 vaccines) के लिहाज से 35,000 करोड़ रुपये के प्रस्ताव भी रखा। हम ये कह सकते है कि सभी की अपेक्षा पुर्ण करना किसी सरकार के लिए संभव नहीं है। जैसे एक परिवार में सभी सदस्य को खुश रखना संभव नहीं है। उसी तरह से देश के सभी जनता अपेक्षा पुर्ण करना किसी सरकार के बस में नहीं है। शेयर बाजार (share market ) इस बजट को सकारात्मक रूप में लिया है।  पिछले 24 सालों में
सालों में पहली बार बजट के दिन सेंसेक्स सबसे सबसे ऊंची छलांग है। जिस वजह बजट 2021का शेयर बाजार (share market )  निवेशक के लिए चांदी निकल गई है। वैसे इस बजट में चुनावी साल होने बाजवुद भी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था सुधारने के विषय सोचा है ना कि चुनाव जीतने के लिए बजट बनाया है। आज बजट का पुरा फोकस युवाओ रोजगार उपलब्ध करवाना और अर्थव्यवस्था का स्वस्थ सुधारने रहा जो कि अच्छी पहल है। मैं इस बजट को 1991 के आर्थिक सुधार जैसा मानता हूँ , जिसका लाभ यकीनन भविष्य मिलेगी। बल्कि ये बजट से भारत विश्व के अर्थव्यवस्था में  बड़ी भागीदारी रूप में देखा जा सकता है। विपक्ष काम ही आलोचना करना है , चाहे सरकार सही दिशा में सकारात्मक पहल क्यों ना ले। जैसे कि 1991 आर्थिक सुधार को हम देख सकते है। कई-कई देश अर्थव्यवस्था स्वस्थ सुधारने  के लिए कड़े कड़े कदम उठाते पड़ते है। हम कह सकते है कि देश के अर्थव्यवस्था जिस vaccines जरूरत थी वो मिल गया है।

अब हम आपको बताते है आज की बजट की 10 बड़ी बातें ---

(1) बजट 2021 में इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

(2) बजट 2021 में कृषि और इंफ्रा सेस लगाया गया।




(3) रेलवे के लिए अभी तक का सर्वाधिक 1,10,000 करोड रुपए, बिजली से चलने वाली ट्रेन 72% बढ़ेगी,
जिसमें से 1.07 लाख करोड़ रुपये पूंजीगत व्यय के लिए हैं। उन्होंने कहा कि रेलवे मालगाड़ियों के अलग गलियारों के चालू होने के बाद उनका मौद्रिकरण करेगी। सीतारमण ने केंद्रीय बजट 2021-22 पेश करते हुए कोरोना वायरस lockdown के बीच  देशभर में आवश्यक वस्तुओ परिवहन के लिए रेलवे द्वारा दी गई सेवाओं की सराहना की। उन्होंने कहा, "मैं रेलवे के लिए 1,10,055 करोड़ रुपये की रिकॉर्ड राशि की घोषणा कर रही हूं, जिसमें से 1,07,100 करोड़ रुपये केवल पूंजीगत व्यय के लिए हैं।
 



(4)  बजट 2021 में पेट्रोल पर 2.50 रुपये प्रति लीटर कृषि सेस लगाया गया।बजट 2021 में डीजल पर 4 रुपये प्रति लीटर कृषि सेस लगाया गयसेस जिससे आम आदमी कोई चिंता करने जरूरत नहीं है। क्योंकि ये सेस सरकार स्वयं भरेगी।क्योंकि एडिशनल एक्साइज ड्यूटी घटायी गयी है।

(5) क्या सस्ता और क्या महंगा-

वित्तमंत्री निर्मला सीतारामण ने कुछ ऑटो पार्ट्स पर 15 फीसदी तक इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाई है। उससे नई गाड़ियां महंगी होंगी। सरकार ने मोबाइल और उससे जुड़े चार्जर और हेडफोन पर 2.5 परसेंट इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी है। जिसका असर स्मार्ट फोन की कीमतों पर होगा, अब आपको नए फोन के लिए ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ेगी। लेकिन अगर सभी सम्मान कंपनिया भारत बनाएगी। दाम घट जाएगी। इंपोर्ट ड्यूटी लगाने मुख्य उद्देश्य यही कि Aatmanirbhar Bharat को बढ़ावा देना इसलिए इस बजट को  Budget को Aatmanirbhar Bharat भी कह सकते है। उसके  अलावा इलेक्ट्रानिक उपकरण, इम्पोर्टेड कपड़े, सोलर इन्वर्टर, सोलर लालटेन, फ्रीज और एसी का कंप्रेशर, कॉटन नट और पेंच और कच्चा सिल्क और सिल्क का धागा महंगे हुए हैं।वहीं स्टील से बने सामान सोना, चांदी, तांबे का सामान, सोने चांदी के सिक्के और ईंटे और नायलन चिप सस्ते हुए हैं।


( 6.) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एपीएमसी (APMC) मंडियों के लिए एग्री इंफ्रा फंड का ऐलान करते हुए कहा कि सरकार एपीएमसी मंडियों को आधारभूत सुविधाएं प्रदान करने का प्रयास करेगी। वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि आगामी वित्तीय वर्ष में 1,000 मंडियों को राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक मार्केट के साथ एकीकृत किया जाएगा।

(7) बजट 2021 में 75 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को इनकम टैक्स रिटर्न भरने से छूट मिल गई।

(8) बजट 2021 में सरकार ने एयर इंडिया को बेचने का निर्णय किया।

(9) बजट 2021 में इस साल LIC का IPO लाने का निर्णय किया गया।

(10.) 50 उच्च शिक्षण संस्थान शुरू होंगे 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि जल्द नई शिक्षा नीति (New education policy)की घोषणा की जाएगी। मार्च 2021 तक 150 उच्च शिक्षण संस्थान (Higher Education Institute) शुरू हो जाएंगे जिनमें स्किल्ड प्रशिक्षण दिया जाएगा। क्‍वालिटी एजुकेशन के लिए डिग्री वाली ऑनलाइन योजनाएं शुरू की जाएंगी। यही नहीं उन्‍होंने नेशनल पुलिस यूनिवर्सिटी और नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी के प्रस्ताव के बारे में भी बताया। उन्‍होंने कहा कि डॉक्टरों की कमी दूर करने के लिए हर जिला अस्पताल के साथ मेडिकल कॉलेज बनेगा। बजट में शिक्षा के लिए 99300 करोड़ जबकि स्किल डेवलपमेंट के लिए 3000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।




No comments