Breaking News

PCS KA FULL FORM

 आज के समय में हर व्यक्ति सरकारी नौकरी करना चाहता है, इसके लिए छात्र बहुत मेहनत करते हैं। इस मेहनत के बाद भी कुछ छात्र सफल नहीं हो पा रहे हैं। इसका मुख्य कारण सही जानकारी नहीं मिलना है। सही जानकारी होने के बाद भी, आपको अपने लक्ष्य के लिए बहुत मेहनत करने की आवश्यकता है। इसके साथ ही एक सही मार्गदर्शक भी होना चाहिए, जो समय आने पर आपको गलत और सही जानकारी दे सके। यदि आपके पास PCS से संबंधित जानकारी नहीं है, तो इस पृष्ठ पर PCS Ka Full Form, PCS का अर्थ क्या है, बताया जा रहा है।


PCS KA FULL FORM

PCS का पूर्ण रूप Provincial Civil Service है, हिंदी में इसे प्रांतीय सिविल सेवा के रूप में जाना जाता है। पीसीएस में अपनी राज्य नीति बनाने से संबंधित पद होते हैं। इसका चयन राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के माध्यम से किया जाता है। यह पूरी परीक्षा राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाती है।


PCS MEANING का क्या अर्थ है?

पीसीएस एक राज्य परीक्षा है। इस परीक्षा में सफल होने वाले उम्मीदवारों को एसडीएम, डीएसपी, एआरटीओ, बीडीओ, जिला अल्पसंख्यक अधिकारी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी, सहायक आयुक्त, व्यापार कर अधिकारी के पद पर नियुक्त किया जाता है। यह परीक्षा राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है।

शैक्षिक योग्यता

PCS के लिए शैक्षणिक योग्यता इस प्रकार है:

इस परीक्षा में उपस्थित होने के लिए, उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक उत्तीर्ण होना चाहिए।

उम्मीदवार की आयु 21 वर्ष से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

उसे भारत का नागरिक होना चाहिए।

आरक्षित उम्मीदवार को नियमानुसार छूट दी गई है।

पीसीएस अधिकारी का वेतन (सैलरी)

उम्मीदवार को पीसीएस अधिकारी के रूप में लगभग 15600 से 67000 रुपये प्रदान किए जाते हैं। इसके अलावा, एक पीसीएस अधिकारी को सरकारी भवनों, वाहनों और अन्य प्रकार के भत्ते प्रदान किए जाते हैं।


परीक्षा पैटर्न (परीक्षा पैटर्न)

पीसीएस की चयन प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी होती है-


प्रारंभिक परीक्षा

परीक्षा देता है

व्यक्तिगत साक्षात्कार

इन तीनों में सफल होने वाले उम्मीदवारों का चयन निर्धारित पदों पर किया जाता है।

प्रारंभिक परीक्षा

इस परीक्षा में दो पेपर होते हैं, पहले पेपर में कुल 150 प्रश्न पूछे जाते हैं। दूसरे पेपर में कुल 100 प्रश्न पूछे जाते हैं। उनकी समय अवधि 2 घंटे है। ये दोनों 200 अंकों के हैं।


मुख्य परीक्षा

इस पेपर में कुल 8 पेपर हैं, 4 अनिवार्य और 4 वैकल्पिक विषय हैं -

अनिवार्य विषय (अनिवार्य विषय)

सामान्य अध्ययन पेपर 1

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र २

सामान्य हिंदी



वैकल्पिक विषय (वैकल्पिक विषय)

हिंदी

अंग्रेज़ी

इतिहास

सामान्य विज्ञान

वर्तमान घटनाएं

भूगोल

विज्ञान

भारतीय राजनीति और शासन

पर्यावरणीय पारिस्थितिकी के सामान्य मुद्दे

आर्थिक और सामाजिक विकास


साक्षात्कार (साक्षात्कार)

यदि उम्मीदवार पूर्व परीक्षा और मुख्य परीक्षा पास करते हैं तो उन्हें साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है। यह 200 अंकों का होता है। इसमें सामान्य जागरूकता, चरित्र, अभिव्यंजक शक्ति और व्यक्तित्व से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।


PCS परीक्षा के लिए तैयारी

आप इस तरह से पीसीएस परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं-


यदि आप पीसीएस के पद पर काम करना चाहते हैं, तो आपको अच्छी तैयारी करनी होगी, इसके लिए आपको अपने राज्य से संबंधित इतिहास और भूगोल का अच्छा ज्ञान होना चाहिए। आप सामान्य ज्ञान, इतिहास और भूगोल की प्रामाणिक पुस्तकों के माध्यम से इस जानकारी को बढ़ा सकते हैं।

पीसीएस परीक्षा एक उच्च परीक्षा है, इसलिए आपको अपनी तैयारी को उच्च स्तर पर ले जाना होगा, इसके लिए आपको अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होगी। पीसीएस परीक्षा एक सिविल सेवा परीक्षा है, यह ध्यान में रखते हुए कि इसका पेपर उच्च स्तर पर आता है।

PCS परीक्षा में नवीनतम विकास और अंतर्राष्ट्रीय विकास से संबंधित कई प्रश्न पूछे जाते हैं, इसके लिए आपको समय में देश के नवीनतम विकास और अंतर्राष्ट्रीय विकास के बारे में जानकारी प्राप्त करनी होगी। इससे अपडेट रहने के लिए आप प्रतिदिन एक दैनिक समाचार पत्र का अध्ययन कर सकते हैं। इसके अलावा, आपको हर दिन एक समाचार चैनल देखना होगा, जिससे आपको समय में दैनिक घटनाओं के बारे में जानकारी मिलेगी।

इस परीक्षा की तैयारी के लिए NCERT की पुस्तकों को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है, कई विशेषज्ञों को इन पुस्तकों का अध्ययन करने की सलाह दी जाती है। आप उनका अध्ययन करने के बाद नोट्स बना सकते हैं, इससे आपको परीक्षा के समय संशोधित करने में आसानी होगी। यदि आप अच्छे नोट्स बनाते हैं, तो आप परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं।

हिंदी विषय निश्चित रूप से लगभग सभी राज्यों की पीसीएस परीक्षा में शामिल होता है, इसलिए आपको इस प्रश्न पत्र के लिए अच्छी तैयारी करनी होगी। इसके लिए आपको गहराई के साथ पार्वती, विलोम, मुहावरों, लोकों, शब्द रूपों, रचनाओं आदि का अध्ययन करना होगा। इसके अलावा, आपको व्याकरण की अच्छी समझ होनी चाहिए। जब आप इस तरह से तैयारी करते हैं, तो आप हिंदी प्रश्न पत्र में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं। इससे आपके परिणाम बेहतर हो सकते हैं। अच्छे अंक प्राप्त करने के बाद ही आप अपने समकक्ष के साथ प्रतिस्पर्धा कर पाएंगे।


No comments