Breaking News

ये है दुनिया का सबसे अनोखा गांव, जहां सारे लोग रहते हैं जमीन के अंदर

  आपने दिल्ली के कनॉट प्लेस में स्थित पालिका बाजार के बारे में सुना होगा, जहां पूरा बाजार भूमिगत है यानी जमीन के अंदर। ठीक है, यह एक बाजार है, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि दुनिया में एक ऐसा गांव भी है जहां पूरी आबादी जमीन के अंदर रहती है।


इस अनोखे गांव का नाम 'कुबेर पेड़ी' है, जो दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया में स्थित है। इस गाँव की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहाँ लगभग सभी लोग भूमिगत घरों में रहते हैं। बाहर से देखने पर ये घर साधारण लग सकते हैं, लेकिन अंदर का दृश्य किसी होटल से कम नहीं है। दरअसल, ओपल की इस क्षेत्र में कई खदानें हैं। लोग इन ओपल की खाली खदानों में रहते हैं। आपको बता दें कि ओपल दूधिया रंग का एक कीमती पत्थर है। कोबे पेड़ी को दुनिया की ओपल राजधानी भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें दुनिया में ओपल की सबसे ज्यादा खदानें हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुबेर पेड़ी में खनन का काम साल 1915 में शुरू हुआ था। दरअसल, यह रेगिस्तानी इलाका है, इसलिए यहां का तापमान गर्मियों में बहुत ज्यादा होता है और सर्दियों में बहुत कम। इसके कारण यहां रहने वाले लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। समाधान यह था कि लोग खनन के बाद खाली छोड़ी गई खदानों में रहने चले गए।

कोबर पेड़ी के इन भूमिगत घरों में न तो गर्मियों में एसी की आवश्यकता होती है और न ही सर्दियों में हीटर की। आज, 1500 से अधिक ऐसे घर हैं, जो जमीन के अंदर हैं और लोग यहां रहते हैं।

जमीन के नीचे बने ये घर हर तरह की सुविधाओं से लैस हैं। कई हॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग भी यहां हुई है। 2000 की फिल्म 'पिच ब्लैक' की शूटिंग के बाद, प्रोडक्शन ने फिल्म में इस्तेमाल किए गए स्पेसशिप को छोड़ दिया, जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है। लोग यहां घूमने आते हैं।

No comments