Breaking News

51 साल बाद डिकोड हुआ एक सिरफिरे कातिल का संदेश, 37 लोगों को उतार दिया था मौत के घाट

  1960 से 1970 के दशक के दौरान अमेरिका में एक सीरियल किलर के ग्रह नक्षत्र शब्दों का उपयोग करके बनाए गए पहेली संदेशों को आखिरकार 51 साल बाद विशेषज्ञों द्वारा हल किया गया है। आपको बता दें कि 70 के दशक में यह हत्यारा अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को इलाके में आतंक का दूसरा नाम बन गया था। हालांकि, पुलिस ने इसे कभी नहीं पकड़ा और इसमें लगभग 37 लोग मारे गए।


अब, लगभग 51 साल बाद, मीडिया और पुलिस के लिए छिपी उनकी पहेलियाँ और संदेश डिकोड हो गए हैं। इस सीरियल किलर ने पुलिस और मीडिया को चुनौती देने के लिए ज्योतिषीय प्रतीकों और संदर्भों का इस्तेमाल किया, जिससे उसका आतंक लोगों में फैल गया और वह पूरे देश में सबसे ज्यादा चर्चित व्यक्ति बन गया।

अब इतने सालों के बाद हत्यारे की पहेली को अमेरिकी क्रिप्टोग्राफर डेविड ओरान्चैक, बेल्जियम के सॉफ्टवेयर इंजीनियर जार्लवान और ऑस्ट्रेलियाई सॉफ्टवेयर इंजीनियर सैम ब्लेक की टीम ने सुलझा लिया है। इस पहेली को हल करने के बाद, यह पता चला कि हत्यारे ने उस समय पुलिस और मीडिया चैनलों को अपने संदेश में लिखा था कि, 'आपको पकड़ने में बहुत मज़ा आ रहा है। मैं टीवी शो में बताए जा रहे हत्यारे नहीं हूं और मैं गैस चैंबर से नहीं डरता। क्योंकि यह मुझे तुरंत स्वर्ग ले आएगा। '

बता दें कि लाख कोशिशों के बाद भी पुलिस इस सीरियल किलर तक नहीं पहुंच सकी। इस कातिल को पकड़ने के चक्कर में पुलिस ने कई संदिग्धों को पकड़ा था, लेकिन असली कातिल हमेशा पुलिस से दूर ही रहा। अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआई ने भी सीरियल किलर के संदेश को डिकोड करने की पुष्टि की है।

उस समय जब पुलिस इस हत्यारे तक नहीं पहुंच सकी, पुलिस को डर था कि वे एक नहीं बल्कि दो हत्यारे हैं। यह कातिल जांच एजेंसियों को गुमराह करने के लिए ज्योतिषीय भाषा का इस्तेमाल करता था और पुलिस को संदेश भेजता था और हमेशा पुलिस का मजाक उड़ाता था। इतना ही नहीं, पुलिस ने इस मामले में कई संदिग्धों को गिरफ्तार भी किया, लेकिन किसी भी मामले में यह साबित नहीं किया जा सका कि सीरियल किलर वही है।

No comments