Breaking News

Super exclusive: जानिए kya sach mein TRP खरीदा जा था या फिर मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने republic TV लगाया झुठा आरोप ...

 नमस्कार दोस्तों आप सभी स्वागत है , आज हम आपको एक बहुत बड़ी Super exclusive खबर देने जा रहे है , जिसमें मुंबई पुलिस (MumbaiPolice) और सोनिया सेना षडयंत्र का  पर्दाफाश करेंगे। उस पहले आपको बता दे  आज लोकतंत्र का चौथा स्तंभ मिडिया के लिए बहुत ही बुरा दिन है । जैसा कि आप जानते हैं कि पत्रकारिता का धर्म होता दोनो ही पक्ष का  बात रखना,  इसलिए आज हम दोनो पक्ष की बात को रखे गे। आज हम आपको ऐसी Super exclusive इनफॉमेशन देने जा रहे , जिसके बाद मुंबई पुलिस भी सवालो के घेरे आ जाएगी।


मुंबई पुलिस के आरोप 


मुंबई पुलिस (MumbaiPolice)  ने  republic TV और दो अन्य मराठी चैनल पर आरोप लगाया कि ये चार पांच सो रूपये दे कर trp खरीद रहे थे। परमबीर सिंह ने बताया कि टीआरपी की निगरानी के लिए मुंबई में 2,000 बैरोमीटर लगाए गए हैं। बार्क (BARC) ने इन बैरोमीटर की निगरानी के लिए 'हंसा' नामक एजेंसी से गोपनीय अनुबंध किया था जो टीआरपी के साथ छेड़छाड़ कर रही थी। जिन घरों में ये कॉन्फिडेंशियल पैरामीटर्स लगाए गए थे उस डेटा को किसी चैनल के साथ शेयर कर उनके साथ टीआरपी में छेड़छाड़ की गई। इन घरों में एक खास चैनल को ही लगाकर देखते रहने कहा था। 



 republic TV का जवाब 


मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने रिपब्लिक टीवी के खिलाफ झूठे आरोप लगाए, क्योंकि हमने उन पर सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच को लेकर सवाल उठाए। रिपब्लिक टीवी मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज कराएगा। BARC ने ऐसी एक भी रिपोर्ट नहीं दी है, जिसमें रिपब्लिक टीवी का नाम हो। देश की जनता सच जानती है।  सुशांत सिंह राजपूत केस में परमबीर सिंह की जांच संदेह के घेरे में है इसलिए वो बौखलाए हुए हैं क्योंकि रिपब्लिक टीवी ने सुशांत सिंह राजपूत और पालघर केस में देश को सच दिखाया। रिपब्लिक टीवी का एक-एक सदस्य सच्चाई के पीछे और मजबूती से खड़ा होगा। परमबीर सिंह का पूरी तरह से पर्दाफाश हो गया क्योंकि बार्क ने अपनी किसी शिकायत में रिपब्लिक टीवी का नाम नहीं लिया है। परमबीर सिंह को आधिकारिक रूप से माफी मांगनी चाहिए और कोर्ट में कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार रहना चाहिए।


पत्रकारिता का धर्म निभाते हुए दोनो ही पक्ष को आप सामने रख दिया , हम आपको एक ऐसी Super exclusive खबर दिखाने जा रहे है , जिसके बाद मुंबई पुलिस ने बदले कार्रवाई republic TV परेशान किया या फिर मामला सच जैसा कि आप जानते हम  न्यायपालिका नही , इसलिए आप सच रखे गे परंतु उसका निर्णय नही बताएगे। क्योंकि हमारा मानना है कि हमारे माना है कि सच कड़वा क्यों ना हो उसे लिखने या कहने से नही डरना चाहिए । रिसर्च आधारिक एक ऐसी रिपोर्ट पेश करेंगे जिस साबित हो जाएगा। परमबीर सिंह झुठ कह रहे या सच?


जानिए परमबीर सिंह झुठ कह रहे या सच 


अबतक सबसे बड़ी और Super exclusive खबर हम आपको बताने जा रहे , जिस साफ हो जाएगा  मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह झुठ कह रहे है क्योंकि हमारे पास एफआईआर कॉपी है जिसमें republic TV का नाम तक नही है। एफआईआर कॉपी में क्या लिखा है वो आप निचे देख सकते है। 



एफआईआर कॉपी में साफ तौर India today का नाम इस साबित होता है कि republic TV पर मुंबई पुलिस (MumbaiPolice) कमिश्नर परमबीर सिंह 

आरोप झुठा  है।  इसमें कही भी republic TV का नाम ही नही है फिर परमबीर सिंह ने कैसे republic TV का नाम ले लिया तो क्या राजनीति बदला था , जिस से वो पत्रकारिता का स्वतंत्रता खत्म करना  चाहते थे। सच दबाने के लिए इसका जवाब परमबीर सिंह व सत्ताधीस  Uddhav Thackeray देना चाहिए। आपको बता दे कि मुंबई  पुलिस ने पत्रकारो से बातचीत दौरान republic TV आरोप तो लगा  दिया परंतु सबुत पेश नही किया। इसका सीधा अर्थ परमबीर सिंह झुठ बोल के स्वतंत्र पत्रकारिता आवाज समाप्त करना चाहते है जो कि लोकतंत्र के लिए एक बहुत खतरा है। 




दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.



No comments