Breaking News

Kangana vs Shiv Sena : Kangana Ranuat के घर को ध्वस्त करने से किसानो की महाराष्ट्र में आत्महत्या बंद हो जाएगी तो क्या मुंबई सड़को पर जलजमाव की समस्या खत्म हो जाएगा , कोरोना बढ़ते हुए मामला कम हो जाएगी, जवाब दो ठाकरे परिवार, जवाब दो BMC

 

नमस्कार मित्रो देश की आर्थिक राजधानी मुबई की जो अब हिटलरशाही तानाशाही की राजधानी बन गई है ,  मुंबई में 9 सितंबर को BMC ने लोकतंत्र की हत्या कर दी। यू कहिए लोकतंत्र मुत्यु हो गई (Death Of Democracy) । आज वो राजनिति दल कहा जो कहा कहते है कि वो लोकतंत्र को बचाए गे , लेकिन आज वो सब खामोश हो चुके है । जो लोग लोकतंत्र बचाने की बात करते वही लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे है।

Kangana vs Shiv Sena

खुश बहुत हुई होगी महाराष्ट्र की सरकार एक लड़की के सपनों का घर उजाड़ कर महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार ने अपनी क़ाबिलियत का जो नमूना पेश किया है, उसे देश की तारीख़ याद रखेगी। स्वर्ग से अगर बालासाहेब देख रहें होंगे तो क्या गर्व से उनका भी सीना फूल रहा होगा? आख़िर उन्होंने ही तो ऐसा क़ामयाब सपूत महाराष्ट्र को दिया, जो महाराष्ट्र के साथ उनका नाम भी रौशन कर रहा है ।  मुंबई अपनी क़िस्मत पर रोएगी। आज लोकतंत्र की सही अर्थ में हत्या हुई है। बधाई हो तालियाँ बजती रहनी चाहिए, उद्धव ठाकरे के लिए, संजय राऊत के लिए और उनके सभी गठबंधन के साथियों के लिए, आख़िर उन्होंने अपनी ताकत का सबूत जो पेश किया। एक लड़की जिसने उनकी शासन-व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह खड़े किए , उसके आने से पहले उसका ऑफ़िस तोड़ दिया। वाह महाराष्ट्र सरकार वाह महाराष्ट्र सरकार

Kangana vs Shiv Sena

BMC की मुंबई की समस्या का सामधान करने बजाय राजनिति प्रतिशोध लेने व्यस्त है , चाहे मुंबई में जल जमाव BMC को चिंता क्यों होगी , BMC तो ठाकरे परिवार खिलाफ बोलने वालो के घर तोड़ने में व्यस्त है ।


इन क्षेत्रो में जलजमाव

मुंबई के चेंबूर, परेल, हिंदमाता, वडाला और अन्य क्षेत्रों के निचले इलाकों में जलभराव की बारिश की मौसम आम बात बन गई है। पानी लोगों के घरों में भर गया है। सड़कों पर कमर भर से ज्यादा पानी लगा रहता है। पानी इतना है कि गाड़ियां डूब गई हैं। किंग सर्किल, हिंदमाता इलाके में सबसे अधिक पानी भरा हुआ है। गिरगांव इलाके में भी यही हाल है। मुंबई के अंधेरी इलाके में कई फीट पानी भरा हुआ है।

BMC इन समस्या सामधान के बजाय इन दिनो ठाकरे विरुद्ध बोलने वालो के घर गिराने में व्यस्त है। तब ऐसी हालात जब BMC की बजट देश कई छोटे राज्यो से भी अधिक है। आईए हम बताते है कि BMC की बजट कितनी है। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 33,441 करोड़ रुपये का बजट रखा है। मुंबई की महानगर पालिका  (BMC)का यह बजट गोवा, त्रिपुरा और असम जैसे राज्यों के बजट से भी अधिक है।  जैसा कि  उदाहरण के तौर पर देखें तो साल 2019-20 में का गोवा बजट 19,548 करोड़ रुपये, त्रिपुरा का बजट 17,500 रुपये और सिक्किम का बजट मात्र 8,665 करोड़ रुपये था।फिर  भी मुंबई लोगो अच्छी सुविधा नही मिल पाती , बारिश की मौसम में जलजमाव की समस्या परेशान मुंबई।

कंगना की घर तोड़ने बजाय महाराष्ट्र किसानो स्थिती सुधर जाएगा 


महाराष्ट्र किसानो की स्थिती भी बहुत ही दयनीय है , महाराष्ट्र में  किसानों की आत्महत्या सबसे अधिक होती है, किसानो की आत्महत्या की मामलो महाराष्ट्र देश में नंबर-1 बना हुआ है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों से महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार के हाथ पांव फूले हुए हैं। देशभर में बीते साल 10349 किसानों की आत्महत्या के आंकड़े जारी किये गये हैं जिसमें महाराष्ट्र के 3594 किसानों की आत्महत्या के आंकड़े बेहद चौंकाने वाले हैं। महाराष्ट्र बीते महज नवंबर महीने में तीन सौ किसानों ने आत्महत्या कर ली।

इन सारे आंकड़े देखने बाद उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को जवाब देना चाहिए कि कंगना घर तोड़ने से किसानो स्थिती महाराष्ट्र अच्छी हो जाएगा ,जवाब नही तो फिर कंगना घर तोड़ने से क्या फायदा ठाकरे जी हुआ । महाराष्ट्र के किसान ओर महाराष्ट्र जनता जाना चाहती है।

जब किसानो की स्थिती कैसे बेहतर हो इसके लिए उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के पास कोई योजना है ही नही, तो फिर सरकार में क्या रहे है।
जनता काम के लिए या वो अपनी निजी दुश्मनी निभाने के लिए सरकार बनाए है क्या?

महाराष्ट्र कई क्षेत्रो में सुखा जैसी भयानक परिस्थिती है लेकिन महाराष्ट्र ठाकरे सरकार भला वो समस्या सामधान क्यों निकाले। वो लोग बॉलीवुड माफिया लोग थोड़े है , जिनको बचाने के लिए पुरा ठाकरे परिवार व सोनिया सेना लोग लग जाए।

अबतक कितने अवैध निर्माणों पर BMC कार्रवाई की

अब हम आपको बताते है कि महाराष्ट्र कितने अवैध निर्माणों को तो इसका जवाब है 1 मार्च 2016 से 8 जुलाई 2019 तक कुल 94851 शिकायतों के एवज में केवल 5461 अनधिकृत निर्माणों पर कार्रवाई की गई है। नोटिस जारी करने के बाद , BMC ने जितनी कंगना अॉफिस तोड़ने दिखाए उतनी ही तेजी इन अवैध निर्माणों को बने से रोकने में क्यों नही दिखाए। आपको बता दे कि बीएमसी अवैध निर्माणों पर हर साल 15,000 से अधिक नोटिस जारी करता है, लेकिन केवल 10 से 20% अवैध निर्माणों पर ही कार्रवाई की जाती है। कुछ अवैध निर्माणों पर बोगस कार्रवाई भी की जाती है। शेष अवैध निर्माणों पर बीएमसी कार्रवाई कब होगी। 

तो कंगना घर गिराने से महाराष्ट्र में कोरोना मामला घट जाएगा


महाराष्ट्र में कोरोना मामले के  सबसे अधिक 23,816 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 9,67,349 हो गई। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि संक्रमण से 325 रोगियों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 27,787 पार हो गई। सोनिया सेना ओर ठाकरे सरकार भला इस से क्या लेना देना , महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण का कुल आंकड़ा बहुत जल्द 10 लाख तक पहुंचनहै।  खैर जाने दीजिए आप से जुड़े मुद्दो की क्या उठाने की क्या जरूरत है ठाकरे जी बस अपने दुश्मनो से बदला लेना है। चाहे देश सविधान ओर लोकतंत्र हत्या करना पड़े वो भी करेंगे।





No comments