Breaking News

ब्लॉग: MS Dhoni Retirement: जानिए कैसे एक छोटे शहर के लड़का बना , टीम इंडिया का सबसे सफल कप्तान , और हम क्यों कह रहे है Dhoni जैसा कोई नही...

नमस्कार दोस्तों किक्रेट एक युग समाप्त हो गया है। 15 अगस्त दिन स्वाधीनता दिवस के शाम अचानक ही महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने ये कहा कि उन्हे 7:29 रिटायर (Retire)समझा जाए।

MS Dhoni Retirement

महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के सभी आईसीसी टॉफी जीताने वाले विश्व के एकमात्र कप्तान है। धोनी कप्तानी में भारतीय टीम (team India) नंबर टेस्ट और नंबर वनडे और टी 20 में भी नंबर बना था।



महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) भारतीय किक्रेटर (Indian cricket) के लिए  अतुल्य योगदान (Contribution) दिया है। उसे ये राष्ट्र कभी नही भुला पाएगा। 




धोनी जैसा विकेटकीपिंग कोई नही


आमतौर पर हमेशा विकेटकीपिंग में होता यह है कि पहले बॉल ग्लब्स में आती है, उसके उपरांत हाथ पीछे जाते हैं और स्टम्पिंग का चांस बनने पर हाथ फिर से आगे आते हैं और अपना काम पूरा करते हैं। इस पूरी प्रक्रिया में कम से कम 3 या 2 सेकंड तो अवश्कता लग जाते हैं। महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की उपलब्धि यह है कि उन्होंने बैट्समेन को मिलने वाले इन 3 सेकंड्स को समाप्त कर दिया। उनका अभ्यास है ग्लब्स को आगे लाते हुए बॉल को पकड़ना, बॉल की गति को अपनी हथेली की गति से क्लैश कराकर शांत करना और वहीं से स्टम्प कर देना।


छोटे शहर के युवाओ के लिए धोनी रोल मॉडल


छोटे शहर निकले हुए धोनी ने एक इतिहास रच दिया , धोनी छोटे शहर के युवाओ के लिए धोनी रोल मॉडल बने , सिर्फ शहर छोटे होते है सपने नही।।किस ने सोचा था कि छोटे शहर रांची निकला हुआ एक लड़का भारतीय किक्रेट टीम का महान कप्तान बन जाएगा। धोनी कप्तानी में भारतीय टीम ( team India) नई ऊंचाई हासिल किया है, उनके कप्तानी भारतीय टीम ( team India) सभी फॉमेट में नंबर वन बना ।


सबसे अलग अंदाज में धोनी हुए रिटायरमेंट 


महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने रिटायरमेंट का ऐलान सोशल मीडिया माध्यम किया,  उन्होंने Instagram पर विडियो पोस्ट जिसमें लिखा था कि Thanks a lot for ur love & support throughout.from 19:29 hrs consider me as Retired.. आपको बता दे कि धोनी अपने रिटायरमेंट का ऐलान पसंदीदा (favorite) गाना के साथ किया जिसका बोल था कि 


मैं पल दो पल का शायर हूँ पल दो पल मेरी कहानी है पल दो पल मेरी हस्ती है पल दो पल मेरी जवानी है मैं पल दो पल का शायर हूँ ... मुझसे पहले कितने शायर आए और आकर चले गए कुछ आहें भर कर लौट गए कुछ नग़मे गाकर चले गए वो भी एक पल का किस्सा था मैं भी एक पल का किस्सा हूँ कल तुमसे जुदा हो जाऊँगा वो आज तुम्हारा हिस्सा हूँ मैं पल दो पल का शायर हूँ ... कल और आएंगे नग़मों की खिलती कलियाँ चुनने वाले मुझसे बेहतर कहने वाले तुमसे बेहतर सुनने वाले कल कोई मुझको याद करे क्यूँ कोई मुझको याद करे मसरूफ़ ज़माना मेरे लिये क्यूँ वक़्त अपना बरबाद करे मैं पल दो पल का शायर हूँ ...

आपको बता दे कि गाना फिल्म कभी कभी-(Kabhi Kabhi), संगीतकार / Music Director: खय्याम-(Khaiyyam) गीतकार / Lyricist: साहिर लुधियानवी-(Sahir Ludhianvi)

गायक / Singer(s): मुकेश-(Mukesh) 




हर कोई धोनी तरह लम्बे बाल रखना चाहते थे


हम में से कई लोग जो किक्रेट धोनी को देखने के लिए देखते थे, मैंने जब किक्रेट देखने की शुरूआत किया था वो सिर्फ धोनी को देखने के लिए , मुझे याद जब लम्बे  बाल में बल्लेबाजी के आते थे, उस समय मैदान हर किक्रेट फैन धोनी धोनी कहते थे। धोनी hairstyle हर युवा हो या बच्चे सब कोई कॉपी करना चाहते है , हर कोई धोनी तरह ही लम्बे बाल रखना चाहते थे।


धोनी जैसे किक्रेटर सदियो में एक आते है जब 15 अगस्त को अचानक ये खबर आई तो,  किसी को भी पहली बार विश्वास भी नही हुआ धोनी रिटायर हो गए हैं। वैसे सबके मन विश्व कप (world cup) से जरूर था कि शायद धोनी ने अपना अंतिम मैच खेल चुके है। 15 अगस्त दिन धोनी ने भी किक्रेट से आजाद होना चाहते है,  धोनी अब किक्रेट से आजाद हो गये।


धोनी अपने बातो से नही बल्कि अपने बल्ले से जवाब देते है


धोनी अपने आलोचक को कभी भी बातो से जवाब नही बल्कि अपने बल्ले से देते , धोनी अपने करियर सफलता (Success) देखी तो असफलता  (Failure) भी देखी है , धोनी पर कई बार प्रश्न भी उठे है , चाहे वो आईपीएल में मैच फिक्सिंग (Match fixing) हो लेकिन धोनी हर सवाल का जवाब अपने बल्लेबाजी देते है, सच में धोनी जैसा कोई नही।

 


विश्व सर्वश्रेष्ठ मैच फिनिशर धोनी 

 

धोनी विश्व के सबसे सर्वश्रेष्ठ मैच फिनिशर है , जब भी भारतीय टीम (team India) जीत मुश्किल लगने लगा तब धोनी मैच जीता देते थे। कुछ लोग ये भी कहते थे कि जो अनहोनी को होनी कर दे उसे  महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni)  कहते है।  इंटरनेशनल किक्रेट में धोनी जैसा फिनिशर कोई भी किक्रेटर नही है।


धोनी होने के मायने 

इस देश के 130 करोड़ लोगो को अगर 9 विकेट गिरने के बाद भी जीत का विश्वास रहता था तो वो सिर्फ धोनी वजह से भी ही , इसलिए धोनी होने के मायने कोई भी शब्दो बँया नही कर सकते है।


धोनी महान किक्रेटर के साथ ही एक अच्छे इंसान है

धोनी सफल किक्रेटर बने के बाद भी कभी भी अपने बचपन के दोस्तों को नही भुले , जब भी अपने शहर में रहते है , दोस्तों से जरूर मिलते , धोनी जितने महान किक्रेटर थे , उतने ही अच्छे इंसान है। 


विरोधियों की भी पहली पसंद थे महेंद्र सिंह धोनी


दुनिया कुछ ही इंसान ऐसे होते , जिनके विरोधी उनका सम्मान दे , सही मायने आप धोनी को समझना चाहते है तो कभी पार्थिव पटेल (Parthiv Patel) से पूछियेगा पटेल का पूरा करियर ही धोनी के चलते लगभग समाप्त हो गया परंतु पटेल ने हमेशा कहा कि माही का जवाब नहीं। मेरा तो उससे कोई मुकाबला नहीं। धोनी अपने विरोधियों के भी चहेते बने। 2004 में India A के साथ केन्या दौरे पर धोनी के साथ दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) भी विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर थे। कार्तिक और धोनी में से कोई भी भारतीय टीम में कभी भी आ सकता था. एक दिन जब कार्तिक को नेट्स पर बल्लेबाज़ी का अभ्यास कराने के लिए कोई गेंदबाज नहीं मिल रहा था तो धोनी ने अपने पैड उतारे उनके लिए घंटो भर गेंदबाजी की।मौजूदा कमेंटेटर आकाश चोपड़ा (Akash Chopra) भी उस दौरे पर थे और धोनी के इस रवैये को देखकर वो हैरान हो गए और अलग से धोनी से पूछा कि आखिर क्यों अपनी विरोधी की बैटिंग को बेहतर करवा रहे हो। धोनी का जवाब था- आकाश भाई, अगर इंडिया के लिए किस्मत में खेलना लिखा है तो खेल लूंगा ऐसी बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता।


धोनी चुनौती से कभी नही डरे 


धोनी अपने जीवन में चुनौती कभी डरे खड़गपुर में रेलवे की नौकरी करते हुए माही को तीन साल हो गए थे, लेकिन लाख प्रयास के बावजूद धोनी का कहीं चयन नहीं हो पा रहा था। फिर भी वो हिम्मत नही हारे उसी नतीजा था कि कुछ दिनो बाद ही माही का चयन  भारत-ए में हो गया।  धोनी कभी भी कठिन चुनौती से डरे नही बल्कि उन से लड़े और सफल भी हुए।


  


किस्मत के धनी थे धोनी 


जब भी महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) किसी मैच जीत जाते थे लोग उन्हे किस्मत की धनी कहते थे , लेकिन जब वही धोनी हार जाते लोग उन्हे हार के जिम्मेदार बता दिया जाता है।


दोस्तों धोनी के लिए आप कितने भी शब्द लिख दे , शब्द कम पर जाएगे , इसलिए कहते है धोनी जैसा कोई नही।

दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.

No comments