Breaking News

covid-19 update: कोरोना वायरस बढ़ते मामले बावजूद भी किसी और देश भारत तुलना क्यों नही किया जा सकता है...


नमस्कार दोस्तों रिसर्च किए बिना ही Facebook कुछ भी लिखने वाले लोग जब कभी वास्तविकता क्या उसे जानने का प्रयास भी नही करते है।

मैंने मानता हूँ कि लोकतंत्र में सरकार के समर्थन या  विरोधी करने अधिकार सबको है। लेकिन आलोचना (Criticism) करते हुए सही उदाहरण देना भी सिखे है। 


 वर्तमान परिक्षेप में देखे तो सोशल मिडिया में भक्त और चमचो में दो भागो में बंट गई, जँहा पर किसी निष्पक्ष विशेषण की उम्मीद रख भी नही सकते है। 


आज हमारा विषय है कि कोरोना मामले क्या भारत तुलना किसी और देश किया जा सकता है जिसका उत्तर यही होगा नही किया जा सकता है।



कुछ लोगो मानना है कि अमेरीका और ब्राज़ील में जहां कोरोना मरीज़ों की संख्या में कमी आ रही है। वहीं भारत में ये लगातार बढ़ क्यों रही है?


आईए इसके गणित विस्तार समझते है , इसके पिछे कि वजह है कि पहले उनका पिक टाइम था अब हमारा है ,आगे चल के और अधिक होने संभवना है। और भारत का तुलना (comerison) कभी भी कोई देश नही हो सकता है। भारत की जनसंख्या अमेरीका और ब्रिज़िल की जनसंख्या से भी अधिक  है। कुछ लोग न्यूजीलैंड कोरोना खत्म होने पर भारत से तुलना कर रहे , ये तुलना वही लोग जिन्हे भारत की जनसंख्या का बारे कोई जानकारी ना हो असल में भारत के वर्तमान आबादी 2018 में आई रिपोर्ट माने तो 135.26 करोड़ है यानी वर्तमान भारत से किसी देश का तुलना ( comperison ) नही किया जा सकता है। जबकि न्यूजीलैंड की जनसंख्या महज 48 लाख है जो कि भारत राजधानी दिल्ली से भी कम है , आप ही तय करिए तो क्या भारत की तुलना न्यूजीलैंड से किया सकता जवाब यही होगा कि नही किया जा सकता है।


क्यों भारत का तुलना ब्राज़ील और अमेरिका से नही किया जा सकता है।

अब जो भारत तुलना ब्राज़ील अमेरिका से कर उनके लिए इन दोनो देशो की जनसंख्या बता देते है जो कि इस प्रकार है- ब्राज़ील  20.95 करोड़ और अमेरीका क 33.1 करोड़ है। अगर इन दोनो देशो की जनसंख्या मिला दिया जाए तो 20.95+33.1= 54 करोड़ होती है। जबकि भारत की जनसंख्या 135 करोड़ है , आपको ये बता दे कि आंकड़े 2018 के है यानी 2020 में जनसंख्या आंकड़े ज्यादा हो गई है। ओर आपको बता दे कि हमने जनसंख्या आंकड़े जिस Sources लिया वो है (World Bank, United States Census Bureau, StatCan)



आशा करते है कि अब आप समझ गये है कि सोशल मीडिया बताए गये कई जानकारी पुरी तरह असत्य है।



पुरे विश्व में मृत्यु दर सबसे कम भारत में 


अपने आप निष्पक्ष कहने वाले कुछ सोशल मीडिया पर सरकार आलोचना (Criticism) करने वाले  आपको कभी भी ये नही बताईए गे कि  पुरे विश्व में कोरोना वायरस (covid-19) मृत्यु दर सबसे कम भारत में ही है। कल की ताजा आंकड़े मुताबिक 2.01 प्रतिशत हो गयी है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक 08 अगस्त को देशभर में 861कोरोना संक्रमितों की मौत हो गयी जिससे अब तक इस संक्रमण के वजह जान गंवाने वाले व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 43 हजार के पार 43,379 हो गई है। लेकिन हम यह भी कहेगे कि एक भी मुत्यु होना बहुत ही दुंखत है, में उनके लिए अपनी और सवेंदना प्रकट करना हूँ , लेकिन कम जनसंख्या वाले देश में भी मृत्यु दर ज्यादा है। जबकि भारत से विकसित देश में स्वास्थ्य सेवा स्थिती बेहतर होने बावजूद भी मृत्यु दर भारत मुकाबले बहुत ही अधिक है।



ताली बजाना, थाली बजाना और दिया जलाए मजाक उड़ाने वाले पहले जान लो पीएम क्यों कहा था?


कुछ लोग इस बात मजाक उड़ा रहे कि पीएम नरेन्द्र मोदी जी इसलिए ताली बजाना, थाली बजाना और दिया जलाए कहा था कि कोरोना खत्म हो जाएगा। जबकि इसके पिछे वजह थी कि कोरोना योद्धाओं (Corona warriors) को सम्मान देने के लिए प्रधानमंत्री जी ने ऐसा करने कहा था। कुछ चीजे राजनिति नही जोड़ना पर कुछ ऐसे लोगो समाज में हर चीज को राजनिति से ही जोड़ देते है चाहे वास्तवविकता कोई लेना देना ना हो या ना हो। 



अंत आपसे यही कहुँगा कि  सोशल मीडिया कुछ ऐसे  लोगो जो अपने बौद्धिक अज्ञानता प्रस्तुत करते जिन्हे ने अपने जीवन में कभी किसी चीज पर रिसर्च किया ही नही वो किसी भी देश भारत तुलना कर देते है जो कि कतई भी उचित नही है। बस यही कहुँगा अपने ज्ञान क्षमता व्हात्सप्प यूनिवर्सिटी ( whatsapp university) ना रखे बल्कि कि रिसर्च करना भी सिखिए किसी बात तुरन्त चाहिए। उसकी वास्तविकता तथ्यो (fact) की आधार पर समीक्षा करे तभी जाकर किसी चीज निष्कर्ष पहुँचे पाएगे।



सारांश के तौर पर ऐसा कहा जा सकता है आने दिनो कोरोना वायरस मामले और ज्यादा होने की संभवना है, इसलिए सरकार पहले से इसकी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। और लोगो को सोशल मीडिया के नकारात्मक चीजो दुर हो कर वास्तविकता अध्ययन करना चाहिए। आपको बता दे कि कई राज्यो कोरोना रिकवरी रेट 90 प्रतिशत है।


दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.

No comments