Breaking News

vikas Dubey Encounter: विकास दुबे एनकाउंटर मामले में कानपुर पुलिस के एडीजी प्रशांत कुमार ने क्या कहा ??



नमस्कार दोस्तों कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी 5 लाख का इनामी विकास दुबे शुक्रवार एनकाउंटर में मारा गया। यूपी एसटीएफ की टीम विकास दुबे को लेकर जैसे ही कानपुर पहुंची, विकास गाड़ी में सुरक्षाकर्मियों की पिस्टल छीनने लगा। इसी बीच संतुलन बिगड़ने के बाद गाड़ी पलट गई। गाड़ी पलटते ही विकास पुलिस पर फायरिंग कर भागने लगा। सुरक्षाकर्मियों ने भी अपने बचाव में गोलियां चलाईं। मुठभेड़ में विकास गंभीर रूप से घायल हो गया। सुरक्षाकर्मी उसे लेकर हैलट अस्पताल पहुंचे जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। विकास दुबे के शव का पोस्टमार्टम होने से पहले कोरोना टेस्ट कराया जाएगा। आपको बता दे कि विकास दुबे की कोरोना वायरस रिपोर्ट निगेटिव आई है। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है। माना जा रहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने में रात हो सकती है।
vikas Dubey Encounter


कानपुर पुलिस के एडीजी प्रशांत कुमार का बयान
vikas Dubey Encounter


गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर मामले पर उत्तर प्रदेश में कानपुर पुलिस के एडीजी प्रशांत कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने विकास दुबे के एनकाउंटर की पूरी कहानी बताई?
उन्होंने कहा, पहले विकास दुबे से सरेंडर करने के लिए कहा गया था किंतु उसने पुलिसवालों को जान मारने की नियत से फायरिंग की, जिसके उपरांत बचाव में पुलिस ने जिसके बाद बचाव में पुलिस ने उसपर गोली चलाई।


एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा विकास दुबे को गिरफ्तार किए जाने के बाद उत्तर प्रदेश एसटीएफ पुलिस उसे कानपुर ले कर आ रही तभी सुबह 6.30 कानपुर पहुंचने से पहले पुलिस की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होकर पलट गई। दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। इस बीच विकास दुबे ने घायल पुलिसवालों की पिस्टल छीनकर भागने की प्रयास की।पुलिस टीम ने उसे घेरकर आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया, लेकिन वह नहीं माना और जान से मारने की नियत से पुलिस टीम पर फायरिंग करने लगा। इसके उपरांत पुलिस ने आत्मरक्षा के लिए जवाबी कार्रवाई की गई, जिसमें वह घायल हो गया। उसे तुरंत इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के वक्त उसकी मौत हो गई।उन्होंने ये भी कहा कि मुठभेड़ में पुलिसकर्मियों को भी चोट लगी है. एसटीएफ के दो कमांडो भी घायल हो गए हैं जिनका इलाज चल रहा है।
उन्होंने आगे कहा कि दो जुलाई को कानपुर

एनकाउंटर मामले में कुल 21 आरोपी नामजद हैं और 60 से 

70 अन्य अभियुक्त थे। जिसमें से अब तक 3 लोग गिरफ्तार हुए हैं, 6 मारे गए हैं और 120 बी के अंदर 7 लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है. 12 इनामी बदमाश वांछित चल रहे हैं।

दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.



No comments