Breaking News

tik tok ban in india: भारत सरकार ने किया Digital Strike जानिए कितना नुकसान हुआ China को और घुटनो के बल आ गया tik tok और चीन ...

नमस्कार दोस्तों tik tok  समेत चीन के कुल 59 एप्लीकेशन (APP)  पुर्णरूप प्रतिबंध कल से लगा दिया गया है। जिसके उपरांत ही गूगल प्ले स्टोर (Google play store) तथा (ऐप्पल प्ले स्टोर) Apple play store इन एप्लीकेशन (APP)हटा दिया गया है। भारत सरकार ( indan government ) के इस निर्णय को आर्थिक दृष्टिकोण देखे इस चीन के लिए एक बड़ा झटका है। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत दुनिया में डिजीटल युग में सबसे तेजी प्रगति की है।
tik tok ban in india

आज के परिस्थिती में भारत में करीब 61 करोड़ लोगो तक इंटरनेट ( internet) इस्तेमाल करते है , आपको बता दे jio के आने के उपरांत इस आकड़े तेजी बढ़त देखने मिली है। जैसा कि आप सभी जानते हैं दुनिया के लिए भारत एक बहुत बड़ा बाजार (Market)  है।



भारत व दुनिया में कितने है tik tok युजर 


 भारत में Tik Tok के 20 करोड़ Users हैं। जिनमें से क़रीब 12 करोड़ Active Users हैं।2019 में जनवरी से मार्च के बीच भारत में Download किए गए Apps में Tik Tok पहले नंबर पर है। इस समय क़रीब 9 करोड़ लोगों ने इस एप्लीकेशन (App) को Download किया। पूरी दुनिया में 110 करोड़ से अधिक लोगों ने इस एप्लीकेशन (App)  को Download किया है। और केवल  Downloads और In-App Purchases की बदौलत ही इस App ने साढ़े 500 करोड़ रुपये से ज़्यादा की कमाई की मूल रूप से ऐसे Apps की कमाई का ज़रिया, User द्वारा Create किया गया Content और उसका Data होता है। इसका सीधा अर्थ है ये कि आपके भले ही लग रहा होगा कि tik tok आपके लिए बिल्कुल नि शुल्क है किंतु ध्यान समझे तो कुछ भी इस दुनिया में कुछ नि: शुल्क नही है बल्कि उसके बदले में इस एप्लीकेशन को आप अपनी महत्वपूर्ण डाटा दे रहे है। आपके इन्ही डाटा के बदौलत ये एप्लीकेशन करोड़ो की कमाई करते है। दोस्तों हम अन्य चाईनीज एप्लीकेशन Helo App कितने युजर है आपको बता दे कि भारत में Helo App के 5 करोड़ से ज़्यादा Active Users हैं।इन दोनों Apps को बनाने वाली कंपनी का नाम है Byte-Dance और ये कंपनी आज दुनिया की सबसे महंगी Start Up कंपनी बन चुकी है। इस कंपनी का Valuation क़रीब 5 लाख करोड़ रुपये का है। ऐसी कंपनियों को केवल अपनी कमाई की फिक्र होती है। उन्हें इस बात की ज़रा सी भी परवाह नहीं होती, कि उनके द्वारा बनाए गए Apps का ग़लत इस्तेमाल भी हो सकता है।


भारत से पहले भी कई देश Tik Tok पर प्रतिबंध लगा चुका है

बांग्लादेश और इंडोनेशिया ने पहले ही Tik Tok पर प्रतिबंध लगा दिया था। इंडोनेशिया ने इसलिए Ban लगाया, क्योंकि इस App से नकारात्मक (Negative) Content का प्रचार हो रहा था। लेकिन जब इस एप्लीकेशन ने नकारात्मक (Negative) Content को सेंसर करने की बात मानी, तो इंडोनेशिया ने प्रतिबंध हटा लिया। जबकि बांग्लादेश में इस एप्लीकेशन की सहायता  से Pornography को बढ़ावा मिल रहा था। इसलिए वहां Tik Tok पर प्रतिबंध लगाया गया। अमेरिका ने फरवरी 2018 में इस एप्लीकेशन पर क़रीब 40 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। क्योंकि, इसने ग़ैर कानूनी तरीके से बच्चों से जुड़ी जानकारी चोरी की थी। किंतु भारत के संदर्भ में ऐसे एप्लीकेशन पर प्रतिबंध लगाना बाक़ी सभी देशों के मुक़ाबले कहीं अधिक आवश्यक है। क्योंकि मामला नकारात्मक (Negative ) Content या Pornography तक सीमित नहीं है। बल्कि उससे कहीं अधिक बड़ा है। क्योंकि ऐसे एप्लीकेशन की कारण से हमारे देश का माहौल खराब हो रहा है। पिछले साल झारखंड में Mob Lynching का शिकार हुए युवक के समर्थन में कुछ लोगों ने Tik Tok पर अपने Videos बनाकर Post किये थे। इन सभी Posts में धार्मिक आधार पर अलग-अलग समूहों के बीच नफरत और भेदभाव पैदा करने वाली बातें कही गईं थीं। उसमें आम लोगों से लेकर फिल्म इंडस्ट्री के अभिनेता तक शामिल थे। एक ऐसा ही व्यक्ति था एजाज़ खान जिसने Tik-Tok App पर लोगों के बीच धार्मिक आधार पर नफरत बढ़ाने वाले विडियो को प्रमोट किया था। बाद  में उसे गिरफ्तार भी किया गया। इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करने वालों की एक बड़ी संख्या गांवों और छोटे शहरों में रहने वाले लोगों की है। एक दिलचस्प तथ्य (Fact) ये भी है, कि इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करके कई लोग Famous भी हो गए। उसमें कई आपराधिक छवि के लोग भी शामिल हैं, जो रात में लूट-पाट करते हैं, और दिन में Tik-Tok पर आपत्तिजनक वीडियो बनाकर, समाज का नुकसान करते थे।

आज एप्लीकेशन के विस्तृत इफॉर्मेशन जाने के उपरांत आपके मन के कई प्रश्र के उत्तर शायद आपको मिल गये होगे।

साईबर एक्सपर्ट्स क्या मानते है 

साईबर एक्सपर्ट्स ये मानते है कि भारत सरकार के ये कदम बिल्कुल उचित है। साईबर एक्सपर्ट्स निजी अन्य एप्लीकेशन ज्यादा चाईनीज एप्लीकेशन लेते है। चाईनीज एप्लीकेशन के प्रतिबंध (ban) लगने उपरांत लोगो की निजी डाटा पहले कहीन ज्यादा सुरक्षित रहेगी।


सरकार क्यों लगाया चाईनीज एप्लीकेशन पर प्रतिबंध 

आपको बता दे कि सरकार (government) सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (IT Act) की धारा 69 A  के अनुसार सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के प्रावधानों के तहत इसे लागू करते हुए सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने (प्रोसिजर एंड सेफगार्ड्स फॉर ब्लॉकिंग ऑफ एक्सेस ऑफ इंफॉरमेशन बाई पब्लिक) नियम 2009 और खतरों की आकस्मिक प्रकृति को देखते हुए 59 ऐप पर पुर्णरूप प्रतिबंध लगा दिया है।

सरकार के मुताबिक इन 59 एप्लीकेशन को ब्लॉक करने का निर्णय इसलिए लिया गया है क्योंकि उपलब्ध जानकारी के मद्देनजर वे उन गतिविधियों में लगे हुए हैं जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए पूर्वाग्रहपूर्ण हैं। सरकार (government) की ओर से कहा गया कि डेटा सुरक्षा से जुड़े पहलुओं और 130 करोड़ भारतीयों की गोपनीयता की सुरक्षा को लेकर चिंताएं बढ़ गई थीं। हाल ही में यह ध्यान दिया गया है कि इस तरह की चिंताओं से हमारे देश की संप्रभुता और सुरक्षा को भी खतरा है।


LIST OF CHINESE APPS BANNED BY GOVT
tik tok ban in india





चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान बयान 

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने भारत में चीनी एप्लीकेशन पर प्रतिबंध (ban)  के बारे में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा चीन भारत द्वारा जारी नोटिस से अत्यधिक चिंतित हैं। हम स्थिति की जांच और पुष्टि कर रहे हैं। उन्होंने कहा मैं इस बात पर जोर देना चाहता हूं कि चीनी सरकार सदा अपने कारोबारियों से विदेश में अंतरराष्ट्रीय नियमों, स्थानीय कानूनों और विनियमनों का पालन करने के लिए कहती है। लिजियान ने कहा भारत सरकार की जिम्मेदारी है कि वह चीनी सहित सभी बाहरी निवेशकों के वैध और कानूनी अधिकारों की रक्षा करे। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन और भारत के बीच व्यावहारिक सहयोग में वास्तव में दोनों का फायदा है।उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं से नुकसान होगा और यह भारतीय पक्ष के हित में नहीं है।

चीन दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग का बयान

भारत में चीन दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग ने कहा कि  चीनी पक्ष गंभीरता से इस मुद्दे को लेकर चिंतित है और इस तरह की कार्रवाई का दृढ़ता से विरोध करता है। जी रोंग ने आगे कहा  यह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार (WTO) और ई-कॉमर्स की सामान्य प्रवृत्ति के खिलाफ है, यह उपभोक्ता हितों के विरुद्ध है।

ट्विटर पर एक पोस्ट के जरिए tik tok की सफाई 
tik tok ban in india


Tik tok India के हैड निखिल गांधी ने कहा है कि ''भारत सरकार ने 59 ऐप्स को बैन करने का निर्णय लिया है। हम इस आदेश को मान रहे हैं। इसके लिए हम सरकारी एजेंसियों से मुलाकात भी करेंगे और अपनी सफाई पेश करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि ''टिक टॉक भारत के कानून का सम्मान करता है. टिक टॉक ने भारत के लोगों का डाटा चीनी सरकार समेत किसी भी विदेशी सरकार को नहीं भेजा है। अगर हमसे ऐसा करने को कहा भी जाता है फिर भी हम ऐसा नहीं करेंगे।


Tik tok के की तरफ से दावा किया गया कि टिक टॉक 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है और इस पर लाखों-करोड़ों यूजर्स हैं। जिनमें आर्टिस्ट, स्टोरी टेलर, टीचर हैं जो अपनी रोजमर्रा की रोजी रोटी के लिए इस पर निर्भर हैं। tik tok ने ये भी दावा किया कि उसमें से बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं।


देश में चीनी सामानो प्रति बढ़ रहा है आक्रोश
tik tok ban in india


चीन के साथ जारी तनाव का असर अब हर क्षेत्र पर हो रहा है। आपको बता दे जब से गलवान घाटी में झड़प के घटना उपरांत देश जनता में आक्रोश चाईनीज समानो प्रति बढ़ रहा है। चीनी समानो खुलेआम बहिष्कार हो रहा है।


दोस्तों ये भी देश की अजीब विडम्बना है कि देश जनता में चीन के प्रति आक्रोश है। लेकिन वामपंथी विचारधारा वाले लोग tik tok समेत 58 चीनी एप्लीकेशन प्रतिबंध (ban) का विरोध कर रहा है कुछ वामपंथी पत्रकार तो ये कह रहे PM CARES Fund में जो दान tik tok दिया वो सरकार (Government) वापस कर देना चाहिए।


वास्तविकता ये है कि tik tok जैसी एप्लीकेशन भारत की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है जिस पर प्रतिबंध लगाना सरकार बिल्कुल उचित निर्णय है।रही बात वामपंथी की इन लोगो निष्टा राष्ट्र प्रति कभी रही ही नही है चाहे 1947 भारत- पाक विभाजन की हो या फिर 1962 में भारत-चीन युद्ध सदा ही वामपंथी ने सदा ही देश के विश्वासघाट किया। खैर हमारा विषय की वामपंथी नही था हम प्रयास करेंगे कि वामपंथी देश के लिए कितना बड़ा खतरा है इस पर एक स्पेशल स्टोरी लाने की।

दोस्तों मोदीजी सरकार चीनी एप्लीकेशन प्रतिबंध लगाना उचित था फिर नही अपनी राय हमे कामेंट में जरूर दे?


दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.

No comments