Breaking News

SBI ग्राहक शीघ्र ही जान ले ये नए नियम वरना देना पड़ेगा भारी-भरकम TeX ..

अगर आप भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के ग्राहक हैं और एक साल में अपने अकाउंट से 20 लाख रुपये की नकदी निकासी करते हैं यह खबर आपको अवश्यक ही पढ़ना चाहिए। ऐसी परिस्थिती में SBI ने tex से बचने के लिए खास उपाय बताया है। देश के इस सबसे बड़े बैंक ने बताया है कि ऐसी परिस्थिती में कैस टीडीएस (TDS- Tax Deducted at Source) से बचा जा सकता है। उसके लिए आपको बस तीन स्टेप्स को फॉलो करना होगा।
SBI

दरअसल पिछले तीन साल में कोई इनकम टैक्स रिटर्न नहीं फाइल किया गया है कि और सालाना 20 लाख या इससे अधिक की नकदी निकासी की जाती है तो सेक्शन 194N के तहत TDS कट जाता है। एसबीआई ने अपने आधिकारिक Tweeter handle
से इस बारे में information दी है।

आईए जानते हैं वो तीन उपाय
SBI


(१) उसके लिए सबसे पहले तो आपको back में अपने pan card की डिटेल्स जमा करनी होगी। अगर आपने पहले से ही पैन कार्ड डिटेल्स (PAN Card Details) दी है तो दोबार इसे जमा करने की जरूरत नहीं है।पैन कार्ड न होने की वजह से टैक्स दर से बढ़ जाती है। बैंक को अपना इनकम टैक्स रिटर्न की डिटेल्स देनी होगी। अगर आपने पिछले 3 साल में एक बार भी इनकम tex रिटर्न दाखिल नहीं किया है तो 1 जुलाई 2020 से अब आपको इस दर पर ब्याज देना होगा।


(२) सालाना 20 लाख रुपये की कैश विड्रॉल करते हैं तो पैन जमा करने या न करने की परिस्थिती में कोई ब्याज नहीं देना होगा।


(३) अगर किसी व्यक्ति ने 1 करोड़ रुपये से अधिक का कैश विड्रॉल किया है और पैन कार्ड डिटेल्स जमा है तो 5 फीसदी टीडीएस देना होगा, अगर पैन कार्ड डिटेल्स नहीं जमा है तो 20 फीसदी टीडीएस देना होगा।


दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.


No comments