Breaking News

amit shah interview today India China Tension: Amit Shah की Rahul Gandhi को चुनौती- संसद में 1962 से आज तक दो-दो हाथ हो जाए


नमस्कार दोस्तों चीन (China) के साथ LAC पर जारी तनाव को लेकर  कांग्रेस की राजनिति जारी है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) बार-बार चीन के साथ गतिरोध को लेकर सरकार पर निशाना साध रहे हैं। लेकिन अन्य विपक्षी दलों ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सरकार के रुख का समर्थन किया है। इस बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाते हुए संसद में बहस करने की चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि हम 1962 के युद्ध से लेकर अब तक की चर्चा के लिए तैयार हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में कोविड १९ और सीमा पर तनाव समेत सभी मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखी। समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में करते हुए अमित शाह ने कांग्रेस और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर जोरदार आक्रमण किए।1962 से आज तक दो-दो हाथ हो जाए। कोई नहीं डरता चर्चा से। जब जवान संघ्रष कर रहा है, सरकार ठोस कदम उठा रही है, उस समय पाकिस्तान व चीन को खुश करने वाला बयान नहीं देना चाहिए।


amit shah interview


सरेंडर मोदी का भी दिया जवाब 


यहां तक कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के 'सरेंडर मोदी' ( 'Surender Modi') तक ट्वीट कर डाला था। इसी से संबंधित सवाल पूछा गया तो अमित शाह ने पलटवार किया। उन्होंने आगे कहा कि सरकार भारत विरोधी प्रोपगेंडा से लड़ने में सक्षम है लेकिन यह देखकर दुख होता है कि इतनी बड़ी पार्टी का पूर्व अध्यक्ष ऐसी 'ओछी' राजनीति करता है. उस ट्वीट का आगे जिक्र करते हुए गृहमंत्री ने आगे कहा कि कांग्रेस और राहुल (Rahul Gandhi) को खुद इस बारे में सोचना चाहिए। उनकी इस बात को पाकिस्तान और चीन में लोग हैशटैग बनाकर इस्तेमाल कर रहे थे. कांग्रेस को इसके बारे में सोचना चाहिए कि उनकी पार्टी के नेता का हैशटैग चीन-पाकिस्तान को बढ़ावा देता है। कोरोना संकट और चीन से तनाव के प्रश्न पर अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi ) के नेतृत्व में भारत दोनों युद्ध जीतने जा रहा है।


कांग्रेस वाले क्या लोकतंत्र की बात करेंगे

अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि भाजपा (BJP) में कभी एक ही परिवार का कोई व्यक्ति अध्यक्ष नहीं बना। कांग्रेस में इंदिरा जी के बाद कोई एक अध्यक्ष बता दीजिए जो परिवार के बाहर का हो, ये क्या लोकतंत्र की बात करेंगे। आपातकाल को देश की जनता ने याद करना चाहिए। क्योंकि लोकतंत्र की नींव पर तब प्रहार हुआ था। कोरोना के विरुद्ध भारत सरकार सही से लड़ी है। राहुल गांधी जी को मैं सलाह नहीं दे सकता।

दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले.


No comments