Breaking News

Zee news editor in chief Sudhir Chaudhary को मिल रही Pakistan धमकी, जम्मू-कश्मीर का zameen jihad का सच क्या दिखाने पर....


Zee news editor in chief सुधीर चौधरी
(Sudhir Chaudhary) जिहाद सच क्या दिखा दिया उन्हे जान मारने धमकी मिलने लगे।जम्मू जमीन जैहाद मामला उठाए  जी न्यूज पर DNA में  सुधीर चौधरी ने जमीन जैहाद के बारे जिसमें जम्मू हिन्दू बहुसंख्यक में इलाको में मुस्लिम आबादी बढ़ाने के षडयत्र रोशनी एक्ट तहत उन जमीन मुसलमानो सस्ते कीमत इन जमीन को एक विशेष समुदाय को दिया गया है।
Sudhir Chaudhary
  • Pic Source Zee news 

पत्रकार सुधीर चौधरी इन नंबरो से धमकी मिल रही है वो सभी नंबर पाकिस्तान के है जिसके विरुद्ध सुधीर चौधरी शिकायत दर्ज कराई है।इस संबंध प्राप्त जानकारी मुताबिक दिल्ली के पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर शिकायत दर्ज कराई है।  साथ ही एक शिकायत गौतमबुद्ध नगर (उत्‍तर प्रदेश) के पुलिस आयुक्त आलोक सिंह को भी दी गई है। दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

सुधीर चौधरी को इन नंबरो मिल रही धमकी



उनके Whatsapp number  पर Pakistan के कई मोबाइल नंबरों +92-3057625175, +92-3479589959, +92-3338831245 से उकसाने वाले संदेश और तस्‍वीरें भेजी गईं। सुधीर चौधरी ने दिल्‍ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। phone करने वाले एक शख्स ने खुद को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी IS I से जुड़ा कहा था । साथ ही कहा कि जमीन जैहाद जो कि जम्मू-कश्मीर से संबंधित है,केरल में जो एफआइआर दर्ज की गई है, ऐसी कई एफआइआर दिल्ली, महाराष्ट्र और पंजाब में दर्ज करा दी जाएगी।


सबसे बड़ा प्रश्न जमीन जैहाद रिपोर्ट Sudhir Chaudhary और Zee news ने जम्मू-कश्मीर पर दिखाए था उसका एफआईआर केरल क्यों हुआ इससे पहले republic भारत के एडीटर इन चीफ (Editor in chief) Journalist Arnab Goswami ने जब पालघर मांब लिंजिग खबर दिखाए था तब भी महाराष्ट्र सरकार ने इसी तरह  एफआईआर दर्ज कर लिया था।
Youth Congress के नेताओ ने Journalist Arnab Goswami पर किए हमले तो क्या Freedom of expression सिर्फ टुकड़े टुकड़े गैंग के लिए



प्रश्न ये उठा कि देश में किस तरह राजनिति शुरूआत हो गई जिसमें जो पत्रकार सच दिखाता उस एफआईआर कर दिया जाता जिससे मिडिया सच कहने डरे।वामपंथी या कांग्रेसी दरबारी पत्रकार सम्मान किया जाता हैजो पत्रकार वामपंथ या फिर कांग्रेस दरबारी पत्रकार तारीफ कर देते ऐसे पत्रकारो ये लोग सम्मान करते परंतु जो उनके विपरीत विचारधारा रखते है।जो सच कहने साहस रखते ऐसे पत्रकार इन्हे बिल्कुल पंसद नही है।



ये वही लोग जो हमेशा ही कहते अभिव्यक्ति स्वतंत्रता है इस हर नागरिक को कुछ कहने की चाहे JNU में राष्ट्र टुकड़े टुकड़े नारे क्यों लगाए परंतु इसी अभिव्यक्ति स्वतंत्रता इन लोगो विपरीत विचारधारा रखने वाले इस्तेमाल करते वो लोग इन्हे बिल्कुल पंसद नही है। जो लोग इन्हे पंसद नही है उनके विरुद्ध एफआईआर करवाने में भी देरी नही करते है।

भारतीय सविधान अभिव्यक्ति स्वतंत्रता क्या कहती है


भारतीय सविधान अभिव्यक्ति स्वतंत्रता परिभाषा है कि किसी सूचना या विचार को बोलकर, लिखकर या किसी अन्य रूप में बिना किसी रोकटोक के अभिव्यक्त करने की स्वतंत्रता अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता (freedom of expression) कहलाती है। भारतीय सविधान एक्ट 19(1)a भारत हर नागरिक अभिव्यक्ति स्वतंत्रता है।
मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभदिख मीडिया लोगों के विचारों को प्रभावित करने या परिवर्तित करने में अहम भूमिका निभाता है। इसकी भूमिका के अंतर्गत न सिर्फ राष्ट्र के समक्ष उपस्थित समस्याओं का समाधान खोजना शामिल है, बल्कि लोगों को शिक्षित तथा सूचित भी करना है ताकि लोगों में समालोचनात्मक जागरूकता को बढ़ावा दिया जा सके।



अगर सुधीर चौधरी ने भी एक जिम्मेदार पत्रकार तरह सच ही दिखाने स्थान वामपंथी या फिर कांग्रेसी दरबारी पत्रकारो तरह गुलामी कि होती है आज वो उनके चैनल गोदी मिडिया या फिर और कोई अबशब्द नही मिलते बल्कि उन्ही दरबारी पत्रकार या वामपंथी पत्रकारो तरह कई पुस्कार मिल गए होते है ये खास विचारधारा लोगो के लिए वो बहुत ही अच्छे पत्रकार होते है।


परंतु सुधीर चौधरी दरबारी पत्रकारो या फिर वामपंथी पत्रकारो तरह गुलामी नही की बल्कि एक सच्चे पत्रकार तरह रोजाना अपने शो DNA में सच दिखाते है जो कि इन दरबारी पत्रकारो और वामपंथी पत्रकारो और ऐसे विचारधारा रखने वाले तमान लोगो बिल्कुल पंसद नही आते है।
ये निर्णय आपको लेना कि दरबारी पत्रकार या फिर वामपंथी पत्रकारो के साथ या फिर बिना डरे बेखौफ होकर पत्रकार पत्रकारिता करने वाले सुधीर चौधरी के साथ है।


ये आर्टिकल कैसा लगा अपनी राय हमें कामेंट में या trendingmedia22@gmail.com के जरिये भेजें।








No comments