Breaking News

Independence Day Speech in hindi 2021 15 अगस्त पर भाषण हिन्दी में 

नमस्कार दोस्तों आप सभी स्वागत है हमारे ब्लॉग पर, आप अभी पढ़ रहें है shashiblog.in आज के आर्टिकल में Independence Day Speech
Independence Day Speech in hindi



Independence Day Speech: इस वर्षा 15 August हमारा 74 स्वतंत्रता दिवस(Independence day) है। जिसका इंतजार छात्र छात्र या बड़े लोग सभी लोग 15 अगस्त को मिलझुलकर मनाते हैं। साथ ही 15 अगस्त पर अपने विचार  जरूर रखना चाहते हैं।


आज के इस आर्टिकल में हम आपको स्वतंत्रता दिवस पावन पर्व पर विद्यालय जाने वाले छोटे बच्चे और विद्यार्थियों के लिये भारत के स्वतंत्रता दिवस (Independence day)पर कई प्रकार का भाषण उपलब्ध करवा रहे है। किसी भी दिये गये भाषण का इस्तेमाल कर स्वतंत्रता दिवस मौके पर विद्यार्थी इस्तेमाल कर सकते है और सक्रियता से भाग ले सकते है।विद्यार्थीयों के लिये सभी भाषण (Independence Day Speech) बहुत ही आसान और सरल भाषा में लिखे गये है जिससे कि वो भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर अपना बेहतरीन भाषण प्रस्तुत (Presented) कर सकते है।

भारत 74 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। कई सालों तक अंग्रेजों द्वारा भारत पर राज किए जाने के बाद 15 अगस्त,1947 को राष्ट्र स्वतंत्रता मिली है।ब्रिटिश शासन के दौरान राष्ट्र पर कई तरह से अंग्रेजों ने अत्याचार किए, जिसके बाद कई महापुरुषों के बलिदान देने के बाद देश को स्वतंत्रता मिली। भारत को अंग्रेजों के चंगुल से मुक्ति दिलाने में कई महापुरुषों ने अहम भूमिका निभाई। इनमें से कुछ प्रमुख नाम सुभाष चंद्र बोस, महात्मा गांधी, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद आदि शामिल हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर बड़े और छोटे भाषण ,Long and Short Speech on Independence Day in Hindi

भाषण 1

मुख्य अतिथि, प्रिंसिपल, शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों के लिए सुप्रभात। मैं आप सभी को एक बहुत ही स्वतंत्र स्वतंत्रता दिवस (Independence day) की शुभकामनाएं देता हूँ, आज मुझे स्वतंत्रता दिवस (Independence day) पर कुछ बोलने का मौका मिला है इसमें मैं अपने आपको सम्मानित महसूस कर ता हूं। 15 अगस्त हमेशा हमारे लिए इतना खास रहा है कि एक दिन जब हम अपने देश की सारी महिमा याद करते हैं क्योंकि हम संघर्ष, विद्रोह और भारतीय स्वतंत्रता से लड़ने वाले भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के प्रयासों को याद करते हैं। भारत का स्वतंत्रता दिवस (Independence day) न केवल ब्रिटिश राज के शासन से भारत की स्वतंत्रता को दर्शाता है, बल्कि यह इस राष्ट्र की शक्ति को भी दिखाता है। और ये दिखाता है कि जब वह इस राष्ट्र के सभी लोगों को एकजुट करता है ।


राष्ट्र प्रतिदिन आगे बढ़े है और एक महाशक्ति बनने के अपने रास्ते पर है। भारत की स्वतंत्रता (Independence day) के चार वर्षों के पूरा होने से पहले हमने इसे संविधान की आरंभ करके साथ में गणराज्य बनाकर राष्ट्र को मजबूत किया जिससे पूरी दुनिया झुकती है। हम एक विशाल विविधता का राष्ट्र हैं, और हमारी एकता हमें एक मजबूत राष्ट्र बनाती है। प्रौद्योगिकी से कृषि तक हम विश्व के शीर्ष देशों में से एक हैं, और यहां से कोई पीछे नहीं जा रहा है क्योंकि हम हमेशा बढ़ने और बेहतर करने के कदम पर हैं।

 आज, जैसा कि हम स्वतंत्रता दिवस पर अपने राष्ट्र की सभी उपलब्धियों को याद करते हैं, हम अपने सैनिकों को न भूलें। हमारे बहादुर सैनिकों के लिए आभाव है कि हम उनके वजह से अपने राष्ट्र में शांति में रह रहे हैं क्योंकि हम जानते हैं कि वे हमेशा हमारी रक्षा करने के लिए वहां रहते हैं। वे भारत को धमकी देने वाली आतंकवादी ताकतों से हमें सुरक्षित रखते हैं।आइए हम अपने सैनिकों से प्रेरित हों और हमारे राष्ट्र को रहने के लिए एक बेहतर जगह बनाने के लिए मिलकर काम करें। कोई भी राष्ट्र सही नहीं है, और हमारी भी कमियां हैं। इस स्वतंत्रता दिवस 2020 पर, हम अपने राष्ट्र को महान बनाने के लिए नागरिकों के रूप में अपना कार्य करने का वचन देते हैं।

मैं एक बार फिर आपको अपने भाषण को ध्यान से सुनने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और मुझे आप सभी के सामने अपनी बात रखे देने के लिए धन्यवाद कहना चाहता हूँ ।और आपको भी अपने शब्द कहने के लिए मौका देना चाहता हूं। जय हिन्द! वन्दे मातरम

भाषण 2

यहां उपस्थित सभी दिग्गजों को मेरा प्रणाम एवं भाईयों और बहनों को स्नेह भरा नमस्कार। स्वतंत्रता दिवस के इस शुभ अवसर पर मैं अपने विचारों को पंक्तिबद्ध तरीके से व्यक्त कर रही हूं, ताकि आप उस दौर के मार्मिकता को समझ पाएं, कि आखिर ऐसी क्या  आवश्यकता आ पड़ी थी की जान बाजी लगानी पड़ी, ऐसी कौन सी विपदा आन पड़ी कि देनी पड़ी थी बलिदान और आशा करती हूं कि ये आप सबको
 आवश्यक पसंद आएगा।

क्या समझोगे तुम इस युग में कि प्राण गवाने का भय क्या था, क्या समझोगे तुम इस दौर में की अंग्रेजो के प्रतारण का स्तर क्या था। क्या देखा है रातों रात, पूरे गांव का जल जाना। क्या देखा है वो मंजर, बच्चों का भूख से मर जाना। कहने को धरती अपनी थी, पर भोजन का न एक निवाला था। धूप तो उगता था हर दिन, पर हर घर में अंधियारा था।

अरे बैसाखी का था पर्व मनाने घर-घर से दीपक निकले थे, लौट न पाए अपने घर को, खून की होली खेली जो बुझ गए थे। जलियावाला बाग हत्या कांड वो कहलाया, जिसमे बच्चे-बूढ़े सब मर गए थे। क्या कसूर था उन निर्दोशों का कि देनी पड़ी कुर्बानी थी, क्या कसूर था उस बेबस मां  का जिससे रूठी उसकी किलकारी थी। धीरे-धीरे आक्रोश बढ़ा, सब के सर पर क्रोध चढ़ा। गांधी जी ने असहयोग आंदोलन चलवाया, तो हमने भी चौरा-चौरी कांड किया।

हमे बेबस समझते थे, इस लिये हमपर राज करते थे। पर राष्ट्र पर जान का बलिदान करने से, न हम भारत वासी डरते थे। बहुत हुआ था तानाशाही, अब तो राष्ट्र
को वापस पाना था। साम, दाम, दंड, भेद चाहे जो हथियार अपनाना था। गांधी जी ने धीरज धरा और कहा अहिंसा को ही अपनाना है। इंट का जवाब पत्थर नहीं होता, यह सबक अंग्रेजों को सिखाना है।

अहिंसा को हथियार बनाया, न कोई गोली-बंदूक चलाया। फिर भी अंग्रेजों को हमने, अपने देश से खदेड़ भगाया और उस तारीख को हमने, सुनहरे अक्षरों से गढ़वाया और यही हमारा स्वतंत्रता दिवस है भाइयों, जो शान से 15 अगस्त कहलाया।

जय हिन्द, जय भारत।



भाषण 3

मैं आप समस्त देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं/देती हूं। मुझे 74 वें स्वतंत्रता दिवस पर बोलने का मौका मिला है इसमें मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं। आज से ठीक 74 वर्ष पूर्व, हमे स्वतंत्रता मिली थी। राष्ट्र की स्वतंत्रता
के संघर्ष की गाथा बहुत बड़ी है और इसका वर्णन कुछ मिनटों में नहीं किया जा सकता है. हर भारतीय के लिए 15 अगस्त का दिन बहुत खास होता है। स्वतंत्रता सेनानियों ने देश की स्वतंत्रता  के लिए जो योगदान दिया वो कभी भूलाया नहीं जा सकता।

स्वतंत्रता सेनानियों के प्रयासों वजह से ही आज हम स्वतंत्रत हैं. स्वतंत्रता दिवस न केवल ब्रिटिश राज से भारत की स्वतंत्रता को दर्शाता है, बल्कि यह इस राष्ट्र की शक्ति को भी दिखाता है।

हमारे वीर योद्धाओं ने कई लड़ाइयां लड़ी और उसके बाद जाकर 15 अगस्त 1947 को हमें स्वतंत्रता मिली है।तब से लेकर आज तक, हम हर वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं। आज हमारा राष्ट्र  तेजी से विकास कर रहा है। राष्ट्र  तेजी से तकनीक, शिक्षा, खेल, वित्त, और कई दूसरे क्षेत्रों में विकास कर रहा है जोकि बिना स्वतंत्रता के संभव नहीं था। परमाणु ऊर्जा में समृद्ध देशों में एक भारत है। ओलंपिक, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स जैसे खेलों में भारत सक्रिय रुप से भागीदार है।आज भारत का गौरव विश्व में और भी ऊंचा हो गया है।भारत में उद्योग बढ़ रहा है और विश्व भर की कंपनी यहां निवेश कर रही हैं। शिक्षा के क्षेत्र में भी देश ने नई उचाइयों को पहुच गया है।

भारत के छात्र विश्वभर में राष्ट्र का नाम रोशन कर रहे हैं। राष्ट्र के वैज्ञानिकों की परिश्रम के चलते आज हमने अंतरिक्ष के क्षेत्र में कई उपलब्धियां हासिल की हैं। चंद्रयान 2 इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। ऐसे में राष्ट्र के हर नागरिक को राष्ट्र की प्रगति को ध्यान में रखकर कार्य करते रहना चाहिए. क्योंकि ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां भारत को अभी मजबूत होने की  आवश्यकता है।आज हमारे राष्ट्र की सरकार के पास रोजगार पैदा करने की चुनौती है। ऐसे में हमें एकजुटता होकर राष्ट्र
  की उन्नति के लिए कार्य करना चाहिए।मैं आपको अपने भाषण को सुनने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं  मैं अपनी वाणी को विराम देना चाहता हूं/चाहती हूं।

No comments