Breaking News

coronavirus: जाने कोरोना वायरस के बारे में और वायरस से बचाव के उपाय








नमस्कार दोस्तों आप सभी स्वागत है हमारे ब्लॉग पर, आप अभी पढ़ रहें है shashiblog.in आज के आर्टिकल में कोरोना वायरस (corona virus) के बारेे बताााएगे।


CEoronavirus alert: चीन के वुहान शहर से शुरू हुई  कोरोना वायरस (corona virus) का इनफ़ेक्शन अब तक विश्व के अधिकतर देशों तक पहुंच चुका है। भारत उन देशों में से एक है,इंडिया में यह इनफ़ेक्शन पहली बार केरल में सामने आया था।
CEoronavirus alert

भारत कोरोना वायरस कितने मरीज


भारत में कुल 29 पॉजेटिव मामले, आखिरी मामला गुड़गांव का है।इनमें 23 तो बुधवार को आए। गुड़गांव में बुधवार शाम पेटीएम कंपनी ने अपने एक कर्मचारी के इस वायरस से इनफ़ेक्शन होने की पुष्टि की। 

भारत कोरोना वायरस बढ़ते हुए मरीज 



भारत में कोरोना वायरस (corona virus) के बढ़ते हुए मरीज को देखते हुए एयरपोर्ट, बंदरगाहों और बाकी एंट्री पॉइंट से देश में प्रवेश होने वाले लोगों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है। इटली, जापान, दक्षिण कोरिया और ईरान से आने वाले विदेशी नागरिकों का वीजा रद्द कर दिया गया है। चीन के नागरिकों में ये बैंन पहले से  ही लागू है। और जिन विदेशी नागरिकों ने एक फरवरी या उसके बाद चीन, इटली, ईरान, दक्षिण कोरिया और जापान जैसे देशों की यात्रा की है, वो भी भारत में प्रवेश नहीं कर पाएंगे।


विदेश में 17 भारतीय कोरोना वायरस पिड़ित 


विदेश मंत्रालय ने कहा कि देश से बाहर रह रहे 17 भारतीयों को कोरोना (corona) पॉजेटिव पाया गया है। इसमें 16 लोग जापान से एक जहाज में थे। वहीं एक यूएई में रह रहे शख्स को भी कोरोना।


भारत आने वाले सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग



भारत सरकार बताया है कि देश के सभी 21 अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर सभी फ्लाइटों से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग जाएगी। अभी तक एयरपोर्ट पर सिर्फ चुनिंदा देशों से आने वाले यात्रियों की ही थर्मल स्क्रीनिंग किया जाता था।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने बताया कि अभी तक देश के 21 अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर 590000 से ज्यादा लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा चुकी है और इसके साथ ही नेपाल, बांग्लादेश और चीन से लगी सीमा पर भी थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही आने की इजाज़त दिया जा रहा है।


विश्व कितने देशो में कोरोना वायरस मरीज


विश्व भर में कोरोना वायरस (corona virus) से इनफ़ेक्शन लोगों की संख्या 94,000 के पार हो गई है।चीन के हुबेई प्रांत में अब तक कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 67,466 हो गयी है।



कोरोना वायरस कितने लोगो मौत हुई


कोरोना से विश्व भर में अब तक 3200 लोगो के मौत हुई है।
ईरान में अब तक कोरोना से 92 और दक्षिण कोरिया में 32 लोगों की मौत हुई है।
सिर्फ इटली में ही अब तक कोरोना से 107 लोगों की मौत हुई है।
चीन के हुबेई प्रांत में अब तक कोरोना से  2,902 मौत हुई है।
कोरोना वायरस फेल रहा।स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए इसे फैलने से रोकना एक बड़ी चुनौती बनी हुई है।हालांकि चीन इसे रोकने के लिए हर मुमकिन प्रयास कर रहा है।


क्या है कोरोना वायरस? What is coronavirus



कोरोना वायरस (corona virus) (सीओवी) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस वायरस का इनफ़ेक्शन दिसंबर में चीन के वुहान में शुरुआत हुई थी। WHO के अनुसार, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं।अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई दवा नहीं बना है।

क्या हैं इस बीमारी के लक्षण?


इसके इनफ़ेक्शन  के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या होना। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। यह वायरस दिसंबर में सबसे पहले चीन में पाया गया है। 

कोरोना वायरस बचाव के उपाय ????


स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस (corona virus)से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं. इनके मुताबिक, हाथों को साबुन से धोना चाहिए. अल्‍कोहल आधारित हैंडवाश का इस्‍तेमाल करना चाहिए। खांसते और छीकते टाइम  नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर जरूर रखिए। जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रहे। अंडे और मांस के खाने से बचें जंगली जानवरों से दुर रहे।
नाक, मुंह और आंखों को बार-बार न छुएं- कई लोग अक्सर अपनी नाक, मुंह और आंखों को बार-बार हाथ लगाते हैं। इस वायरस से बचना चाहते हैं तो ऐसा बिल्कुल नही करें। आपके हाथ कई चीजों को छूते हैं।  उन पर कई तरह के वायरस लगे हो सकते हैं। हथेली पर लगे वायरस नाक, मुंह या आंखों के जरिए शरीर में दाखिल हो सकते हैं। 

मोबाइल की स्क्रीन को हमेशा साफ रखिए


हमारे हाथ में 24 घंटे रहने वाले स्मार्टफोन की स्क्रीन वायरस का बड़ी वजह है। स्क्रीन पर मेथिसिलिन रसिस्टेंट स्टेफाय्लोकोक्स औरीयास (एमआरएसए) नाम के जीवाणु होते हैं। अपने स्मार्टफोन को हफ्ते में एक बार डिसइंफेटिंग वाइप्स से साफ जरूर करिए। ये वाइप्स फोन में ऊपर के भाग में रहने वाले सभी कीटाणुओं को समाप्त कर देते हैं।




No comments