Sunday, November 28, 2021
Homeहटके ख़बरसमुद्र का पानी खारा क्यों है – Why Is The Ocean Water...

समुद्र का पानी खारा क्यों है – Why Is The Ocean Water Salty Know Facts

  हम सभी जानते हैं कि महासागरों और महासागरों का पानी खारा है, लेकिन बहुत कम लोग इसका कारण जान पाएंगे। समुद्र का पानी इतना खारा है कि इसे पीने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। आखिर समुद्र में इतना नमक कहां से आया कि पानी खारा हो गया? आज हम इस लेख के माध्यम से इस प्रश्न के वैज्ञानिक उत्तर का पता लगाएंगे।

हमारी पृथ्वी का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी में है और 97 प्रतिशत पानी महासागरों और महासागरों में है। अमेरिका के नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार, अगर सभी समुद्रों से सारा नमक निकाल कर जमीन पर फैला दिया जाए, तो इसकी परत 500 मीटर ऊंची होगी।

समुद्र में नमक का स्रोत

महासागरों में नमक के दो स्रोत हैं। समुद्रों में सबसे अधिक नमक नदियों से आता है। बता दें कि बारिश का पानी थोड़ा अम्लीय होता है, जब यह पानी जमीन की चट्टानों पर गिरता है, तो यह मिट जाता है और इससे बनने वाले आयन नदी के किनारे महासागरों में मिल जाते हैं। यह प्रक्रिया लाखों वर्षों से चल रही है।

दूसरा स्रोत

इसके अलावा, महासागरों में नमक का एक अन्य स्रोत भी है, जो मिट्टी के फर्श से पाया जाने वाला थर्मल पदार्थ है। ये विशेष सामग्री समुद्र में हर जगह से नहीं आती हैं, लेकिन एक ही छेद और दरारें से जो पृथ्वी की आंतरिक सतहों से संपर्क करती हैं। इन छिद्रों और दरारों से, समुद्र का पानी पृथ्वी की आंतरिक सतह के संपर्क में आता है और गर्म होता है। इसके कारण कई तरह की रासायनिक प्रतिक्रियाएं होती हैं।

समुद्रों में आयन

महासागरों और महासागरों में सबसे अधिक क्लोरीन और सोडियम आयन होते हैं। ये दोनों आयन एक साथ मिलकर महासागरों में 85 प्रतिशत विघटित आयन बनाते हैं। इसके बाद, मैग्नीशियम और सल्फेट 10 फीसदी तक बढ़ जाते हैं। इनके अलावा, शेष आयनों की मात्रा बहुत कम है।

बता दें कि समुद्र के पानी में लवणता या लवणता एक समान नहीं होती है। तापमान, वाष्पीकरण और वर्षा के कारण विभिन्न स्थानों के पानी में अंतर होता है। भूमध्य रेखा और ध्रुवों के पास के क्षेत्रों में बहुत कम मात्रा में लवणता होती है। लेकिन कहीं और यह बहुत अधिक है।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments