Thursday, October 21, 2021
HomeTrendingबिजली संकट पर केजीवाल बोले संभल कर रहें, स्थिती नाजुक...

बिजली संकट पर केजीवाल बोले संभल कर रहें, स्थिती नाजुक है। आपातकाल की स्थिति पैदा न, नितीश बोले बिहार नहीं होने देंगे बिजली कमी चाहे करोड़ो खर्च करना पड़े.

बिजली संकट पर केजीवाल बोले संभल कर रहें, स्थिती नाजुक है। आपातकाल की स्थिति पैदा न हो जाए। इस देशभर में कोयला कमी कारण बिजली संकट पैदा हो रहा है। इस विषय पर जहाँ पर केंद्र सरकार ने कहा कि कोयले कोई कमी नहीं है।

केजीवाल बोले देश में बिजली संकट आपातकाल के स्थिती

राजधानी दिल्ली समेत देश के कई राज्यों में कोयला आपूर्ति बाधित होने की कारण से बिजली संकट की समस्या पैदा हो गई है। ऐसा कहा जा रहा है। कि कुछ दिनों में ही कोयला शेष रह गया है। इसके बाद बिजली संकट की समस्या बढ़ सकती है। वहीं, बिजली समस्या को ध्यान में रखते हुए लोगों के बीच बिजली संकट को लेकर चिंता अपने चरम पर पहुंच चुकी है। लेकिन विगत रविवार को बिजली मंत्री आरके मिश्रा ने बोले कि देश में कोयले की कोई समस्या नहीं है। स्थिती पूरी तरह से सामान्य हैं। कोयले की कमी की वजह से बिजली की समस्या पैदा होने वाली नहीं है।  इससे किसी को भी घबराने की अवश्यकता नहीं है। उनके इस बयान ने बेशक लोगों को राहत पहुंचाई हो। लेकिन इसके साथ कई सारे प्रश्न चिन्ह खड़े हो रहे है कि जब केंद्र की तरफ से बताया जा रहा है कि कोयले की कमी से बिजली संकट नहीं होगा तो फिर दिल्ली समेत अन्य राज्यों में बिजली संकट की खबरें क्यों सामने आ रही है। इसी दौरान आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बात करते हुए बोले कि स्थिती बिल्कुल नाजुक हैं, लेकिन हम केंद्र से मंत्रणा कर इस समस्या का समाधान करेंगे। हम सब मिलकर हालात को सुधारेंगे’।

कोयले की कमी से बिजली संकट की आशंका पर उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि किसी तरह की आपातकाल जैसा स्थिति बने। इस समय देश में स्थिति गंभीर है। कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने इस संबंध में केंद्र को पत्र लिखा है, लेकिन रविवार को केंद्र की ओर से कहा गया कि ऐसा कुछ नहीं है। पुरी में स्थिति संतुलित और नियंत्रण में है। खैर, अब संभावना है कि आने वाले दिनों में सियासत तेज हो जाएगी, क्योंकि आमतौर पर देखा जाता है कि केजरीवाल सरकार जब भी किसी समस्या को लेकर केंद्र सरकार से मदद मांगती है।अगर ऐसा है, तो राजनीति शुरू होती है। कोरोना काल में चाहे टीकाकरण का मुद्दा रहा हो या वेंटिलेटर और ऑक्सीजन का मुद्दा, लेकिन अगर बिजली संकट अपने चरम पर पहुंच गया तो पूरी अर्थव्यवस्था ठप हो जाएगी, जिसका खामियाजा पूरे राष्ट्र को उठाना पड़ेगा।

बिजली संकट दो बड़ी वजह

(1) कोरोना वायरस : बिजली संकट की मुख्य वजह कोरोना वायरस बताया जा रहा है । क्योंकि इस दौरान जिस तरह से घर से ही सारे काम पूरे करने की प्रक्रिया शुरू हुई, उससे रोजाना बिजली की खपत तेजी बढ़ गई है, यही वो बिजली संकट के मुख्य कारण बताया जा रहा है।

(2)भारी बारिश: एक आंकड़ों के अनुसार , कई कोयला खदानें भारी बारिश की चपेट में आ गईं, जिससे काफी मात्रा में कोयला बर्बाद हो गया और इसका सीधा असर बिजली उत्पादन पर पड़ रहा है।

बिहार में बिजली संकट होने नहीं देंगे नितीश

बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार बोले कि समस्या तो है, ये पूरे देश में है, लेकिन बिहार में बिजली कमी नहीं होने देंगे ,चाहे करोड़ो बहाना पड़े बहा देंगे।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

Most Popular

Recent Comments

%d bloggers like this: