प्रेत बाधा दूर करने के टोटके

 हिंदू धर्म में भूतों से बचने के कई तरीके हैं। चरक संहिता प्रेत बाधा से पीड़ित रोगियों के लक्षणों और निदान के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करती है। > ज्योतिष साहित्य के मूल ग्रंथों में ज्योतिषीय योग हैं- प्रश्न मार्ग, ब्रतपरशार, होरा सर, फलदीपिका, मानसागरी आदि जो बाधाओं, प्रेत पीड़ा, पितृ दोष आदि से मुक्ति का उपाय बताते हैं। अथर्ववेद में कई उपाय बताए गए हैं। भूतों और बुरी आत्माओं के भूत भगाने के लिए पाए जाते हैं। यहां भूत से छुटकारा पाने के 10 सरल तरीके दिए गए हैं।

1. के या रुद्राक्ष के प्रतीक को गले में एक अदृश्य लॉकेट में रखें और इसे घर के बाहर त्रिशूल में रख दें। सिर पर चंदन, केसर या तिलक का तिलक लगाएं। हाथ में मौली (नाद) रखना चाहिए।

2. दिवाली पर सरसों के तेल या शुद्ध घी का दिया जलाकर काजल बनाएं। इस काजल को लगाना आपको भूत, प्रेत, पिशाच, डाकिनी आदि से बचाता है और बुरी नजर से भी बचाता है।

3. घर में रात के खाने के बाद, देवस्थान या किसी अन्य पवित्र स्थान पर सोने से पहले चांदी की कटोरी में कपूर और लौंग जलाएं। यह इसे आकस्मिक, दैहिक, दैविक और शारीरिक खतरों से मुक्त बनाता है।

4. प्रेत बाधा को दूर करने के लिए पुष्य नक्षत्र में चिड़चिड़े या धतूरा के पौधे की जड़ को जड़ से उखाड़कर धरती में दबा दें ताकि जड़ वाला भाग ऊपर रहे और पूरा पौधा धरती में समा जाए। इस उपाय से घर में कोई अशांति नहीं होती है और व्यक्ति सुख और शांति का अनुभव करता है।

5. प्रेत बाधा निवारण हनुमत मंत्र – ऊँ ह्रीं श्रीं श्रीं ह्रीं ह्रीं नमो भगवते महाबल पराक्रमाय भूत-प्रेत पिशाच-शकिनी-डाकिनी-यक्षिणी-पुतना-मारी-महामारी, यक्ष रक्षा भैरव बेताल ग्रह रक्षादानमिदं मल्लिकम्। B भण्जय मरायै शिखायै महामरेश्वर रुद्रावतार हुं फट् स्वाहा।

इस हनुमान मंत्र का पांच बार जाप करने से भूत कभी पास नहीं आ सकते।

6. अशोक के पेड़ के सात पत्ते रखें और मंदिर में इसकी पूजा करें। जब वे सूख जाएं तो नए पत्ते रखें और पुराने पत्तों को पीपल के पेड़ के नीचे रख दें। इस क्रिया को नियमित रूप से करें, आपका घर भूत, नेत्र दोष आदि से मुक्त हो जाएगा।

7. भगवान गणेश को एक साबुत सुपारी चढ़ाएं और एक कटोरी चावल दान करें। इस गतिविधि को एक वर्ष तक करें, नेत्र दोष और भूत बाधा आदि के कारण बाधित सभी कार्य पूर्ण हो जाएंगे।

8. मां काली के लिए, उनके नाम से प्रतिदिन सुबह और शाम पूजा से पहले दो धूप की अगरबत्तियां लगाएं और उनसे घर और शरीर की रक्षा के लिए प्रार्थना करें।

9. हनुमान चालीसा और गजेंद्र मोक्ष का पाठ करें और हनुमान मंदिर में हनुमान जी का श्रृंगार करें और चोला चढ़ाएं।

10. मंगलवार या शनिवार को बजरंग बाण का पाठ शुरू करें। यह डर और भय को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है।

इस प्रकार, यह कुछ सरल और प्रभावी टोटके हैं जिनका कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं है। ध्यान रहे, नजर दोष, भूत-प्रेत आदि से छुटकारा पाने के उपाय ही किए जाने चाहिए, टोना-टोटके या टोटके नहीं।

सावधानी: हनुमानजी को हमेशा याद रखें। चतुर्थी, तेरस, चौदस और अमावस्या के अनुष्ठान का पालन करें। शराब न पीएं या मांस का सेवन न करें।

नदी, पूल या सड़क पार करते समय भगवान का स्मरण करें। सोते समय या एकांत में यात्रा करते समय शुद्धता का ध्यान रखें। पेशाब करने के बाद धेला अवश्य लें और जगह देखकर ही पेशाब करें। रात को सोने से पहले भूतों की चर्चा न करें। किसी भी प्रकार के टोना टोटके से बचें।

तांत्रिक अनुष्ठान करने वाले स्थान पर न जाएं। जहां किसी भी जानवर की बलि दी जाती है या जहां भी लालच आदि के धुएं को बुझाने का दावा किया जाता है, भूतों को सभी भागने वाले स्थानों से भागना चाहिए, क्योंकि यह धर्म और पवित्रता के खिलाफ है।

जो लोग भूत, प्रेत या पूर्वजों की पूजा करते हैं वे राक्षसी कर्म के हैं। ऐसे लोगों का पूरा जीवन भूतों के अधीन होता है। भूतों से बचने के लिए कोई भी टोना-टोटका न करें जो धर्म के विरुद्ध है। आपको इससे तत्काल लाभ मिल सकता है, लेकिन अंततः आपको जीवन भर परेशान रहना पड़ेगा।

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला