Friday, October 22, 2021
HomeTrendingतालिबान: अफगानिस्तान के पास बचा सिर्फ काबुल, बड़े शहरों में जलालाबाद पर...

तालिबान: अफगानिस्तान के पास बचा सिर्फ काबुल, बड़े शहरों में जलालाबाद पर भी कब्जा

सारांश

तालिबान तेजी से काबुल की ओर बढ़ रहा है। वह जिस भी शहर में आता है उस पर कब्जा कर लेता है। अब तालिबान ने जलालाबाद पर कब्जा कर लिया है।

खबर सुनो

विस्तार
अफगानिस्तान में तालिबान का कहर जारी है। तालिबान हर दिन काबुल के करीब जा रहा है और अपने रास्ते के सभी शहरों पर कब्जा कर रहा है। अब खबर सामने आ रही है कि तालिबान ने नंगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद पर भी कब्जा कर लिया है. इसके बाद अफगानिस्तान के पास के प्रमुख शहरों में केवल काबुल ही रह गया है, जिस पर आज भी अफगान सरकार का शासन है।

पूर्वी हिस्से से काबुल का संपर्क पूरी तरह टूट गया

तालिबान द्वारा जलालाबाद पर कब्जा करने के बाद काबुल का अफगानिस्तान के पूर्वी हिस्से से संपर्क पूरी तरह से कट गया है। वहीं, कई अन्य शहरों पर कब्जा करने के बाद काबुल अलग-थलग पड़ गया है। इससे पहले शनिवार को तालिबान ने अफगानिस्तान के चौथे सबसे बड़े शहर मजार-ए-शरीफ पर कब्जा कर लिया था। अब जलालाबाद पर कब्जे की जानकारी अफगान सांसद और तालिबान दोनों ने दी है। एक तरफ तालिबान की ओर से कुछ तस्वीरें जारी की गईं। इसमें तालिबानी जलालाबाद के गवर्नर ऑफिस में नजर आ रहे हैं. उधर, प्रांत के सांसद अबरारुल्लाह ने बताया कि अफगानिस्तान में एक मजबूत शहर पर कब्जा कर लिया गया है, जो अफगान सरकार के लिए एक बड़ा झटका है.

19वीं प्रांतीय राजधानी पर कब्जा

तालिबान पिछले एक हफ्ते में और अधिक आक्रामक हो गया है। यह तेजी से अफगानिस्तान की प्रांतीय राजधानियों पर कब्जा कर रहा है। जलालाबाद 19वीं प्रांतीय राजधानी है जिस पर तालिबान का कब्जा है। इससे पहले गजनी, हेरात, कंधार, हेलमंद समेत 18 राजधानियां भी उसके नियंत्रण में आ चुकी हैं।

काबुली से कुछ ही दूरी पर तालिबान

एक के बाद एक शहर पर कब्जा करते हुए तालिबान काबुल के काफी करीब आ गए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, काबुल से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर तालिबान के कुछ आतंकी मौजूद हैं। इससे काबुल में दहशत का माहौल है। लोग खुले आसमान के नीचे रात बिताने से डरते हैं। सेव द चिल्ड्रन के अनुसार, 72,000 बच्चे उन लोगों में शामिल थे जो अपने घरों से भाग गए और काबुल में शरण ली। शरणार्थियों के पास बच्चों के लिए रोटी और दवा के लिए भी पैसे नहीं बचे हैं। तालिबान के कब्जे वाले शहरों में इन शरणार्थियों के घर जला दिए गए हैं। इधर, संयुक्त राष्ट्र ने पड़ोसी देशों से अपनी सीमाओं को खुला रखने का आग्रह किया है।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

Most Popular

Recent Comments

%d bloggers like this: