कैसे हुईं मांग में सिंदूर भरने की प्रथा की शुरुआत ? धार्मिक के साथ जानिए वैज्ञानिक महत्व

नमस्कार दोस्तों हिंदू धर्म में विवाहित महिलाओं के लिए मांग में सिंदूर लगाना सुहाग का प्रतीक माना जाता है जिसके बिना विवाहित महिलाओं का 16 श्रृंगार अधूरा रह जाता है।
हिंदी फिल्म के एक डायलॉग जिसमें एक चुटकी सिंदूर की कीमत… तुम क्या जानो… यह डायलॉग बिल्कुल उचित बैठता हैं। क्योंकि मांग में सिंदूर लगाने के धार्मिक महत्व के साथ वैज्ञानिक महत्व भी हैं।


Sindoor


तो आइए जानते हैं इसे विस्तार से सिंदूर लगाने के फायदे और उस पहले जान लेते है कि आखिर कब और कैसे शुरू हुई थी सिंदूर लगाने की प्रथा??
कहां से शुरू हुई सिंदूर लगाने की प्रथा?

मान्यता है कि भगवान ने वीरा और धीरा नाम के दो युवक और युवती को बनाया और उनको खूबसूरती भी सबसे अधिक दी। उसमें एक पुरुष वीरा काफी बहादुर और वीर था जबकि स्त्री धीरा में दिखने में सुंदर और बहादुर भी थी। दोनों का आपस में विवाह हुआ। एक दिन दोनों साथ में शिकार पर निकले परंतु पूरा दिन उन्हें कुछ नहीं मिला। हारकर दोनों को कंद मूल खा कर ही गुजारा करना पड़ा और दोनों पहाड़ पर ही सो गए। प्यास लगने पर वीरा पास के जलाशय से पानी लेने गया और धीरा वहीं बैठ कर उसका इंतजार करने लगी। उसी वक्त रास्ते पर वीरा पर कालिया नाम के शख्स ने हमला कर दिया जिसके बाद वीरा घायल होकर जमीन पर गिर पड़ा। वीरा को घायल कर कालिया काफी खुश हुआ जिसकी हंसी की आवाज धीरा तक पहुंचीं और पति की ऐसी स्थिती देख उसने चुपके से कालिया पर हमला बोल दिया। इतने में वीरा को भी होश आ गया। बस फिर क्या था पत्नी की इस वीरता को देख वीरा ने धीरा की मांग अपने खून से भर दी। इसी समय से मांग में सिंदूर भरने की प्रथा शुरू हो गई। इसलिए इसी प्रथा को पूरा करते हुए आज भी महिलाएं पति की लंबी उम्र और रक्षा के लिए मांग में सिंदूर लगाती है।
मांग में सिंदूर लगाने पर धार्मिक महत्व जाने
– संनातन धर्म का मानना है कि सिंदूर लगाने से देवी पार्वती ‘अखंड सौभागयवती’ होने का आशीर्वाद देती हैं। कहते है महिलाएं पति की लंबी उम्र की कामना के लिए मांग में सिंदूर भरती हैं।
– दूसरा हिंदू समाज में सती या पार्वती को आदर्श पत्नी के रूप में माना जाता है और लाल रंग को इनका प्रतीक माना जाता है, इसलिए महिलाएं सिंदूर लगाती है।
– सिंदूर में मर्करी यानी पारा होता है जो अकेली ऐसी धातु है जो लिक्विड रूप में पाई जाती है। पारा बुरे प्रभावों से भी बचाता है, इसलिए सिंदूर लगाना महत्वपूर्ण माना जाता है।
– मान्यताओं के मुताबिक मांग में सिंदूर लगाने से पती-पत्नी के बीच हमेशा मजबुत संबंध बना रहता है।
आईए अब जानते वैज्ञानिक दृष्टि से सिंदूर लगाने के कई स्वास्थ्य फायदे है जैसे…

– सिंदूर में मौजूद पारा धातु मस्तिष्क के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं। यह पारा मस्तिष्क को ठंडा रख तनावमुक्त रखता है। इसलिए महिलाओं को विवाह होने के बाद सिंदूर जरूर लगाना चाहिए।
– सिंदूर में पारा जैसी धातु अधिक होने के वजह से चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पड़ती। इससे महिलाओं की बढ़ती उम्र के संकेत नजर नहीं आते हैं।
– इतना ही नहीं, माथे पर सिंदूर लगाने से रक्तचाप नियंत्रित रहता है।
– सिंदूर विवाह के उपरांत लगाया जाता है क्योंकि ये रक्त संचार के साथ ही यौन क्षमताओं को भी बढ़ाने का भी काम करता है।
– स्त्रियां स्वभाव से भी बहुत जल्दी दूसरों की बातों में आ जाने वाली होती हैं। ऐसे में माथे के इस भाग में सिंदूर लगाने से स्त्रियों का मन संतुलित रहता है।
– तनाव के कारण सिरदर्द, अनिद्रा की शिकायत भी सिंदूर लगाने से दूर हो जाती हैं।
आशा करते मित्रो आपको इस प्रश्र का उत्तर मिल गया है। वैसे समझ गए होगे धार्मिक और विज्ञानिक महत्व सिंदुर लगाने के फायदे जान गए होगे।
दोस्तों आपको ये लेख कैसा लगा हमे कामेंट जरूर बताईए और पंसद आए तो मित्रो साझा शेयर करे साथ में latest information पाने के हमारे साइट को बिल्कुल ही नि: शुल्क subscribe कर ले…

Leave a Reply

Infinix Zero 5G Goes Official in India as the Brand’s First 5G Phone: Price, Specifications Happy Hug Day 2022: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & WhatsApp status IPL Auction 2022 Latest Updates Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year Wishes 2022 Happy New Year 2022 Wishes Omicron Variant: अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला