Sunday, November 28, 2021
Homeहटके ख़बरआखिर खदानों से सोना निकालना इतना मुश्किल क्यों होते जा रहा है?

आखिर खदानों से सोना निकालना इतना मुश्किल क्यों होते जा रहा है?

  कोविद -19 महामारी के समय, सोने की कीमतें आसमान को छूने लगी थीं। अचानक सोने की कीमत उछल गई। पिछले साल ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने के उत्पादन में एक प्रतिशत की कमी आई है। पिछले एक दशक में सोने के उत्पादन में यह सबसे बड़ी गिरावट है। कुछ विशेषज्ञों का तर्क है कि अब खानों से सोना निकालने की सीमा समाप्त हो गई है। जब तक सोने की खदानों का खनन पूरी तरह से बंद नहीं किया जाता, तब तक सोने का उत्पादन गिरता रहेगा।

सोने की ऊंची कीमत का कारण यह भी है कि अमेज़न के जंगलों में बड़े पैमाने पर अवैध खनन सोने की खदानों में किया गया है। भले ही सोने की कीमत में उछाल आया हो, लेकिन इसकी मांग में कोई कमी नहीं आई है। सीएफआर इक्विटी रिसर्च के विशेषज्ञ विशेषज्ञ, मिल मिलर का कहना है कि इन दिनों सोने की मांग पहले से कहीं अधिक है।

मिलर के अनुसार, दुनिया में पाए जाने वाले सोने का लगभग आधा आभूषण बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। इसमें वह हिस्सा शामिल नहीं है जो जमीन में दफन है। शेष आधे सोने में से एक चौथाई केंद्रीय बैंकों द्वारा नियंत्रित किया जाता है जबकि शेष का उपयोग निवेशकों या निजी कंपनियों द्वारा किया जाता है।

सोना – भरोसेमंद संपत्ति

मिलर का कहना है कि कोविद -19 के कारण दुनिया की आर्थिक व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। अमेरिकी डॉलर से रुपया कमजोर हुआ है। लगभग सभी देशों के सरकारी खजाने का एक बड़ा हिस्सा महामारी नियंत्रण पर खर्च किया जा रहा है। बड़ी मात्रा में छपाई मुद्रा के लिए उधार लिया जा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि यही कारण है कि मुद्रा का मूल्य अधिक अस्थिर हो गया है। दूसरी ओर, निवेशक सोने को एक विश्वसनीय संपत्ति मानते हैं।

कोरोना महामारी ने भी सोने के खनन कार्यों को प्रभावित किया है। निकट भविष्य में इसकी आपूर्ति बढ़ने की संभावना नहीं है। मिलर का कहना है कि सोने की मांग उसी तरह बढ़ती रहेगी और बाजार में जो सोना आ रहा है, वह ज्यादातर रिसाइकिल होता है। मिलर यहां तक ​​कहते हैं कि सोने, सोने के सिक्के और यहां तक ​​कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के सर्किट बोर्ड में इस्तेमाल होने वाला सोना भविष्य में इस धातु का एक महत्वपूर्ण स्रोत बन जाएगा। एक शोध से पता चलता है कि पिछले 20 वर्षों में सोने की आपूर्ति का 30 प्रतिशत रीसाइक्लिंग से आया है।

खनन का विरोध करें

सोने के पुनर्चक्रण में कुछ जहरीले रसायनों का उपयोग होता है, जो पर्यावरण के लिए खतरनाक हैं। फिर भी यह सोने के खनन की प्रक्रिया से कम घातक है। जर्मनी की गोल्ड रिफाइनरी के हालिया शोध में कहा गया है कि एक किलो सोने को रिसाइकिल करने पर 53 किलोग्राम या कार्बन डाइऑक्साइड निकलता है। जबकि, इस सोने को खदान से निकालने के लिए 16 टन या बराबर कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ा जाता है।

सोने के खनन का पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए, जहाँ भी दुनिया भर में सोना खाया जाता है, स्थानीय लोग इसके खनन का विरोध करते हैं। इस विरोध के कारण सोने के उत्पादन में भारी कमी आई है। उदाहरण के लिए, चिली में पास्कुआ-लामा खदान पर खनन कार्य रोक दिया गया था क्योंकि वहां के स्थानीय पर्यावरण संरक्षण कार्यकर्ता विरोध कर रहे थे।

इसी तरह, लोग उत्तरी आयरलैंड के देश टायरॉन में सड़कों पर ले गए। इस क्षेत्र में सोने की खदानें हैं। कई कंपनियां यहां प्रोजेक्ट शुरू करना चाहती हैं। हालांकि, स्थानीय कार्यकर्ता लगातार इसका विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि स्थानीय लोगों को खनन से क्षेत्र को हुए नुकसान की भरपाई करनी होगी। हालांकि, क्षेत्र के लोग पिछले तीस वर्षों से रोजगार की कमी से जूझ रहे हैं। कंपनी ने उन्हें रोजगार के साथ अन्य सुविधाओं का वादा किया है, फिर लोगों को राजी नहीं किया जाता है।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments