Sunday, November 28, 2021
Homeहटके ख़बरआखिर अमेरिका के राष्ट्रपति भवन को क्यों कहा जाता है व्हाइट हाउस?...

आखिर अमेरिका के राष्ट्रपति भवन को क्यों कहा जाता है व्हाइट हाउस? जानिए सैकड़ों साल पुराना इतिहास

  दुनिया के लगभग हर देश में राष्ट्रपति के रहने के लिए एक आधिकारिक निवास बनाया गया है। भारत में, इसे राष्ट्रपति भवन के नाम से जाना जाता है, लेकिन अमेरिका में, राष्ट्रपति भवन को ‘व्हाइट हाउस’ कहा जाता है। हालांकि इसे हमेशा व्हाइट हाउस का नाम नहीं दिया गया था। जब इसे बनाया गया था, तो इसका नाम ‘राष्ट्रपति महल’ या ‘राष्ट्रपति की हवेली’ रखा गया था। तो क्या कारण था कि इसे ‘व्हाइट हाउस’ नाम दिया गया? दरअसल, इसके पीछे 118 साल पुराना इतिहास छिपा है, जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

‘व्हाइट हाउस’ न केवल अमेरिकी राष्ट्रपति का निवास स्थान है, बल्कि यह अमेरिका की ऐतिहासिक विरासत का एक उत्कृष्ट नमूना भी है। व्हाइट हाउस में हर सुविधा है जो किसी भी शक्तिशाली राष्ट्र के पास होने की उम्मीद है। इसके अंदर एक बंकर भी है, जिसका इस्तेमाल किसी भी मुसीबत के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति और उनके परिवार को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है।

आयरलैंड में जन्मे जेम्स होबन ने व्हाइट हाउस को डिजाइन किया था। इसका निर्माण वर्ष 1792 से 1800 यानी आठ साल में पूरा हुआ था। आपको जानकर हैरानी होगी कि आज जहां व्हाइट हाउस है, वहां कभी जंगल और पहाड़ थे।

व्हाइट हाउस में कुल 132 कमरे हैं। इसके अलावा इसमें 35 बाथरूम, 412 दरवाजे, 147 खिड़कियां, 28 फायरप्लेस, 8 सीढ़ियां और तीन लिफ्ट हैं। छह मंजिला इमारत में दो तहखाने, दो सार्वजनिक मंजिल और बाकी मंजिल अमेरिकी राष्ट्रपति के लिए आरक्षित हैं। इसके अलावा, व्हाइट हाउस में पांच फुलटाइम शेफ काम कर रहे हैं, और 140 मेहमानों ने भवन के अंदर एक साथ डिनर किया है।

व्हाइट हाउस की बाहरी दीवारों को पेंट करने के लिए 570 गैलन पेंट की आवश्यकता होती है। कहा जाता है कि वर्ष 1994 में व्हाइट हाउस को पेंट करने की लागत दो लाख 83 हजार डॉलर यानी लगभग एक करोड़ 72 लाख रुपये से अधिक आई थी।

राष्ट्रपति भवन के यूएस हाउस के नाम के पीछे की कहानी यह है कि 1814 में, ब्रिटिश सेना ने वाशिंगटन डीसी में कई स्थानों पर आग लगा दी थी। इसमें व्हाइट हाउस भी शामिल था। आग ने अपनी दीवारों की सुंदरता खो दी, जिसके बाद इमारत को फिर से आकर्षक बनाने के लिए इसे सफेद रंग में रंगा गया। तब से, इसे ‘व्हाइट हाउस’ के रूप में जाना जाने लगा। फिर 1901 में अमेरिका के 26 वें राष्ट्रपति थियोडोर रूजवेल्ट ने आधिकारिक तौर पर इसका नाम व्हिस हाउस रखा।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments